MH370 फ्लाइट लापता होने की गुत्थी : हाईजैकर्स ? एलियंस ले गए?

नई दिल्ली (5 मार्च): मलेशियन फ्लाइट एमएच-370 को गायब हुए दो साल बीत गये हैं, लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग नहीं मिला है। इस फ्लाइट के बारे में अक्सर नई-नई काहनियां सामने आती रहती हैं। कभी किसी ने कहा कि फ्लाइट को आतंकियों ने हाइजेक कर लिया और अफगानिस्तान के दुर्गम पहाडी़ इलाके में छुपा कर रखा है। किसी ने कहा कि इस विमान के रूसी राष्ट्रपति पुतिन के आदेश पर मार गिराया। तो किसी ने कहा कि इस विमान को एलियंस अपने साथ ले गये हैं।

दुनिया भर के वैज्ञानिकों के लिए पहली बने इस विमान की खोज अब भी जारी है। जहां से भी कोई जानकारी मिलती है, तुरंत मलेशियन खोजकर्ता वहां पहुंच जाते हैं, लेकिन हर बार की तरह वो खाली हाथ ही वापस लौटते हैं। मलेशिया के इस खोज अभियान में ऑस्ट्रेलिया अभी तक लगा हुआ है। ऑस्ट्रेलियन ट्रांस्पोर्ट सेफ्टी ब्यूरो के चीफ कमिश्नर मार्टिन डोलान का कहना है कि हमने पूरे प्रोफेशनल तरीके से मलेशियन विमान की खोज कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें अपनी आलोचना भी पसंद है, लेकिन कुछ लोग मज़ाक बनाते हैं और बिना सोचे-समझे हमारी मजडाक बनाते हैं। अधिकारिक जानकारी के मुताबिक कुआलालंपुर से बीजिंग जा रही इस फ्लाइट ने दत्रिण की ओर उडा़न भरी थी। लेकिन कुछ लोगों का कहना है कि फ्लाइट एशिया की तरफ उत्तर की दिशा की ओर गयी थी। और सैटेलाइट से जो डाटा मिले हैं उन्हें 'टेम्पर'किया गया है। डोलन कहते है कि यह बकवास है।

इसके अतिरिक्त पोरचियस एयरलाइंस के हेड मार्क डूगैन का कहना है कि एमएच 370 डियेगो गार्सिया की ओर बढ़ रहा था। यहां पर पहले से अमेरिका का मिलिट्री बेस है। अमेरिकी फौज ने 11 सितम्बर की जैसी घटना की आशंका से विमान को मार गिराया है। हालांकि अमेरिका ने इस बात का जोरदार खंडन कर दिया है। इस फ्लाइट के बारे में यह भी अफवाह उडी़ थी कि कुछ पैसेंजर्स ने ही इसको हाईजैक किया था। हालांकि जिन लोगों की वज़ह से ऐसा कहा गया उनका संबंध एमएच370 से दूर-दूर तक नहीं था।