जब जज ने कहा 'फ़ीस दो, सलाह देता हूँ!'

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली (15 जुलाई): सुप्रीम कोर्ट के कोर्ट नंबर तीन में शुक्रवार को उस वक्त सब लोग एक दूसरे का मुंह देखने लगे जब जस्टिस जे एस खेहर ने वकील से ही बोल दिया 'मुझे फ़ीस दो, सलाह देता हूँ'!

सुप्रीम कोर्ट में सलमान खान वाले हिट एंड रन मामले में एक घायल पीड़ित की याचिका पर सुनवाई हो रही थी। पीड़ित ने याचिका में मुआवजे की मांग की थी। मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस खेहर ने पीड़ित के वकील से कहा कि इस मामले में महाराष्ट्र सरकार की अपील पहले से ही लंबित है इसलिए कोर्ट आपकी इस याचिका को स्वीकार नहीं कर सकती। इस पर वकील ने कहा, "माई लार्ड, हम सीआरपीसी के सेक्शन 367 के तहत मुआवजे के लिए आये हैं।" जस्टिस खेहर ने याचिका वापस लौटते हुए कहा कि "मुआवजे चाहिए तो जाइये, मुआवजा मांगिये।"

जज की इस टिप्पणी पर बेचारे वकील ने पूछ लिया, "माई लार्ड, आप नहीं सुनेंगे तो हम मुआवजे के लिए कहाँ जाएँ!" बस क्या था! जस्टिस खेहर नाराजगी जताते हुए बोल गए, "बताता हूँ, फ़ीस दीजिये!" जज की बात सुनते हुए कोर्ट में मौजूद तमाम वकील और मीडिया के लोग एक दूसरे की तरफ देखने लगे। फिर, जस्टिस खेहर को ये अहसास हुआ कि कुछ और बोलना चाहिए था। और फिर, संभाल कर बोले, "क्लाइंट से फीस आप लिए हैं और मैं बताऊँ कि मुआवजे के लिए कहाँ जाना है!" और फिर जस्टिस खेहर जोर से हंसे, साथी जज जस्टिस चंद्रचूड़ भी अपनी हंसी नहीं रोक पाये और कोर्ट में मौजूद तमाम लोगों की हंसी फुट पड़ी।