Blog single photo

WhatsApp ने डिलीट किए 1.30 लाख अकाउंट्स, ये है बड़ी वजह

वॉट्सऐप ने 1 लाख 30 हजार से ज्यादा अकाउंट्स ब्लॉक और डिलीट किए गए हैं। हाल के 10 दिनों में कंपनी ने इन अकाउंट्स को वॉट्सऐप से हटाना शुरू किया है। कंपनी ने हाल पिछले साल ही कहा था कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का सहारा लेकर ऐसे अकाउंट्स छांटे जाते हैं। वॉट्सऐप ने ये अकाउंट्स AI टूल्स के जरिए ढूंढा और फिर इन्हें अवैध ऐक्टिविटी की वजह से डिलीट किया गया।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (9 जनवरी): वॉट्सऐप ने 1 लाख 30 हजार से ज्यादा अकाउंट्स ब्लॉक और डिलीट किए  हैं। हाल के 10 दिनों में कंपनी ने इन अकाउंट्स को वॉट्सऐप से हटाना शुरू किया है। कंपनी ने हाल पिछले साल ही कहा था कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का सहारा लेकर ऐसे अकाउंट्स छांटे जाते  हैं। वॉट्सऐप ने ये अकाउंट्स AI टूल्स के जरिए ढूंढा और फिर इन्हें अवैध ऐक्टिविटी की वजह से डिलीट किया गया।

गौरतलब है कि वॉट्सऐप के चैट्स एंड टू एंड एन्क्रिप्टेड होते हैं। इस सिक्योरिटी का मतलब ये है कि वॉट्सऐप पर भेजे गए मैसेज या कॉन्टेंट सिर्फ सेंडर और रिसीवर ही देख या पढ़ सकता है। इतना ही नहीं कंपनी भी इन्हें नहीं पढ़ सकती है। इसलिए ही वॉट्सऐप अवैध कॉन्टेंट के लिए AI का सहारा ले रही है। ये टूल वॉट्सऐप अकाउंट के अन-एनक्रिप्टेड जानकारियों की जांच करता है। इनमें प्रोफाइल फोटो, ग्रुप प्रोफाइल फोटोज और ग्रुप इनफॉर्मेशन शामिल हैं। जांज करके इन्हें हटाया जाता है।

वॉट्सऐप PhotoDNA नाम का भी टूल यूज करता है जिसे फेसबुक यूज करता है। इसके तहत पॉर्न और अब्यूजिव इमेज की पहचान की जाती है और संभावित वॉट्सऐप ग्रुप या यूजर्स जो इसे शेयर कर सकते हैं उन्हें बैन किया जाता है।

वॉट्सऐप के प्रवक्ता ने चाइल्ड पॉर्नोग्रफी की रिपोर्ट के बाद दिए एक बयान में कहा है, ‘WhatsApp चाइल्ड सेक्सुअल अब्यूज को लेकर जीरो टॉलरेंस पॉलिसी रखता है। हमने अपनी सबसे एडवांस्ड टेक्नॉलजी को इससे निपटने के लिए लगाया है जिसमें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस शामिल है।  ये प्रोफाइल फोटोज को स्कैन करता है और संदेह होने पर अकाउंट्स बैन करता है।हमें भारत और दूसरे देशों की जांच एंजेसियों को भी जवाब दिया है।

चूंकि ऐप स्टोर्स और कम्यूनिकेशन सर्विस को अब्यूजिव कॉन्टेंट फैलाने के लिए यूज किया जा रहा है, इसलिए  इससे निपटने के लिए टेक कंपनियों को मिल कर काम करना होगा’ हाल ही में एक रिपोर्ट में कहा गया था कि थर्ड पार्टी ऐप्स के जरिए वॉट्सऐप ग्रुप के नाम को सर्च किया जा रहा है. वॉट्सऐप ने इसके रिप्लाई में कहा है कि वॉट्सऐप ऐसा कोई फीचर नहीं देता है जिससे किसी थर्ड पार्टी ऐप से ग्रुप के बारे में सर्च किया जा सके।

वॉट्सऐप का टूल आपके अकाउंट को भी डिलीट कर सकता है अगर आप ऐसे किसी अवैध ग्रुप के साथ जुड़ते हैं. चूंकि अभी कोई भी बिना इजाजत आपको अपने ग्रुप में ऐड कर सकता है, इसलिए आप सावधान रहें और ऐसे अकाउंट्स या ग्रुप्स को रिपोर्ट करें जो चाइल्ड पॉर्नोग्राफी के कॉन्टेंट शेयर करते हैं।

Tags :

NEXT STORY
Top