जयललिता की दौलत का कौन होगा वारिस?

नई दिल्ली(7 दिसंबर):  तमिलनाडु की पूर्व सीएम जयललिता के निधन के बाद अब उनकी संपत्तियों पर किसका हक होगा इसको लेकर कयास लगाए जाने लगे हैं। दिवंगत जयललिता की वसीयत छोड़ने की कोई खबर नहीं है। ऐसे में करीब 25 वर्षों तक राजनीतिक शक्ति का केन्द्र रहा पोश गार्डन स्थित उनका निवास वेदा निलयम पर किसका अधिकार होगा इसको लेकर अटकलें चल रही हैं। 

- 24 हजार स्क्वेयर फीट में फैले जयललिता के बंगले की कीमत करीब 90 करोड़ रुपये बताई जा रही है।

- क्या इस बंगले पर जयललिता की सहयोगी शशिकला नटराजन का अधिकार होगा या फिर जयललिता की भतीजी दीपा जयकुमार और उनके भाई दीपक इसपर दावा ठोकेंगे? या फिर जयललिता के मार्गदर्शक रहे दिवंगत एम जी रामचंद्रन के बंगले की तरह यह बंगला भी दशकों की कानूनी लड़ाई में फंसेगा? 

- जयललिता के अंतिम संस्कार के बाद शशिकला कार से वेदा निलयम लौटी थीं। दिवंगत रामचंद्रन ने एक वसीयत छोड़ी थी और उसके पालन के लिए एक व्यक्ति की नियुक्ति का भी जिक्र था। बावजूद इसके उनकी संपत्तियां कानूनी विवादों में उलझकर रह गईं और दो दशक की कानूनी लड़ाई के बाद मद्रास हाई कोर्ट ने हाल ही में रामचंद्रन की जायदाद के लिए एक पूर्व जज को प्रशासक बनाया है।

- जयललिता और उनकी मां संध्या ने 1967 में पोश गार्डन का बंगला 1.32 लाख में खरीदा था। कानूनी जानकारों के मुताबिक जयललिता का भतीजा और भतीजी अगर चाहें तो इस बंगले पर दावा कर सकते हैं। 

- जयललिता का इस बंगले के अलावा 80 करोड़ रुपये की अन्य परिसंपत्तियां भी हैं। इन परिसंपत्तियों में निवेश और फिक्सड डिपॉजिट शामिल हैं। इस साल के विधानसभा चुनाव के दौरान जयललिता द्वारा दाखिल किए गए हलफनामे में 118.50 करोड़ रुपये की संपत्तियों का खुलासा किया था। 

- जयललिता ने हलफनामे में व्यवसायिक संपत्तियों और हैदराबाद के नजदीक 14.5 करोड़ रुपये कृषि भूमि का जिक्र किया था। पोश गार्डन स्थित बंगला और विरासत में मिली कुछ जूलरी को एक स्पेशल कोर्ट ने आय से अधिक संपत्ति मामले में अटैच कर दिया था।

- इसके अलावा जयललिता के पास बड़ा बैंक बैलेंस भी था। उन्होंने विभिन्न बैंकों में करीब 10.63 करोड़ रुपये जमा कर रखे थे। उनके पास 1,250 किलो चांदी भी थी जिसका बाजार भाव 3 करोड़ रुपये है।