पिता की आखिरी इच्छा पूरी करने केें लिए अस्पताल के आईसीयू में शादी

नई दिल्ली (21 दिसंबर): पुणे के एक अस्पताल में आईसीयू के भीतर शादी संपन्न हुई, जिसके चर्चे शहरभर में हो रहे हैं। दरअसल, पिता वेंटिलेटर पर जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रहे थे, पर उनकी 'आखिरी इच्छा' पूरी करने को दो परिवारों ने साथ मिलकर यह कदम उठाने का फैसला किया।  ध्यानेश एन. देव पेशे से बिजनसमैन हैं। ध्यानेश के पिता नंद कुमार देव की इच्छा थी कि वे अपनी आंखों के सामने ध्यानेश और सुवर्णा की शादी होते हुए देखें। दुर्भाग्य से शादी की तारीख से कुछ दिन पहले उन्हें दिल का दौरा पड़ा व उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया। दीनानाथ मंगेशकर सुपर स्पेशिऐलिटी अस्पताल में भर्ती नंदकुमार को पहले से दिल की बीमारी थी। यहां इलाज के दौरान ही उन्हें अचानक लंग इनफेक्शन की शिकायत हो गई।

ध्यानेश ने बताया कि पिता को वेंटिलेटर पर रखा गया व उनकी हालत पहले से ज्यादा खराब होने लगी। शादी के कुछ ही दिन बचे थे, लेकिन नंद कुमार की हालत में कोई सुधार नजर नहीं आ रहा था। ध्यानेश ने बताया कि दोनों परिवार ने इस पर मंथन किया और मेरे पिता की आखिरी इच्छा पूरी करने की पहल की। आईसीयू में शादी संपन्न करवाने को लेकर अस्पताल प्रशासन से इजाजत मांगी गई, जिसे स्वीकार भी कर लिया गया।

अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर धनंजय केलकर व अन्य डॉक्टरों ने आईसीयू में सिर्फ दोनों परिवारों के खास लोगों की मौजूदगी में यह शादी संपन्न करवाई। दूल्हा-दुल्हन ने एक-दूसरे को वरमाला पहनाई। दंपती ने नंद कुमार के चरण स्पर्श कर उनसे आशीर्वाद लिया। शादी के कुछ ही घण्टे बाद नंदकुमार की मौत हो गयी।