ये है ऑस्ट्रेलिया की कमजोरी, जिसे पार पाते ही सेमीफाइनल में होगी टीम इंडिया

मोहाली (26 मार्च): ऑस्ट्रेलिया को पटकनी देने के लिए धोनी की सेना कमर कस चुकी है। धोनी एक-एक पहलु को बारीकी से परख रहे हैं। लेकिन मैच से पहले हम बता रहे हैं ऑस्ट्रेलिया के उन कमजोर कड़ियों के बारे में जिस पर टीम इंडिया की नजर होगी।

क्या है ऑस्ट्रेलिया की कमजोरी भारतीय मैदानों पर कंगारुओं की सबसे बड़ी कमजोरी रही है स्पिन। कंगारु बल्लेबाज भारतीय स्पिनरों के आगे हमेशा ही संघर्ष करते नजर आए हैं। ऐसे में अश्विन-जडेजा टीम इंडिया के लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं। जैसा कि पाकिस्तान के खिलाफ कंगारु बल्लेबाज शाहिद अफरीदी और बाकी स्पिनरों के आगे संघर्ष करते नजर आए।

बुमराह पर होगी बड़ी जिम्मेदारी  साथ ही हालिया दिनों में जसप्रीत बुमराह ने अपने यॉर्कर से ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को सबसे ज्याजा परेशान किया है। 3 मैचों की टी 20 सीरीज में बुमराह ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 17 की औसत से 6 विकेट अपने नाम किए थे।

कंगारुओं की कमजोर नस  इसके आलावा भारतीय गेंदबाजों को दो ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज पर खास नजर रखनी होगी, ये हैं डेविड वॉर्नर और ग्लैन मैक्सवेल। क्योंकि इन दोनों के पास आईपीएल में अच्छा खासा खेवने का अनुभव है। दोनों ही इस समय लय में नजर नहीं आ रहे हैं। ऐसे में वॉर्नर और मैक्सवेल पर अगर काबू पा लिया जाता है तो फिर ऑस्ट्रेलिया की परेशानी बढ़ सकती है। साथ ही कप्तान स्मिथ के खिलाफ भी खास तौर पर प्लान तैयार करना होगा। वैसे पिछले कई मैचों में स्मिथ को सबसे ज्यादा बुमराह औप नेहरा ने परेशान किया है।