पहले टीम इंडिया को किया वर्ल्ड कप से बाहर, अब वेस्टइंडीज कप्तान ने दिया बड़ा बयान

नई दिल्ली(3 अप्रैल): वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के कप्तान डैरेन सैमी का कहना है कि वह रविवार को ईडन गार्डन्स स्टेडियम में होने वाले होने वाले टी-20 विश्व कप के फाइनल तक ‘अंडरडॉग्स’ टीम बने रह कर ही फाइनल जीतना चाहते हैं। सैमी ने कहा है कि वह चाहते हैं कि उनकी टीम बाइबल के चरित्र डेविड की तरह बनी रहे, जिसने राक्षस गोलिआथ को मारा था।

सैमी ने मैच से पहले संवाददाता सम्मेलन में कहा, “हम हमेशा डेविड की तरह बने रहना चाहते हैं. वह एक विजेता था लेकिन फिर भी लोग उसे कुछ नहीं समझते थे। हम डेविड की तरह ही खेलना चाहते हैं। अगर हम सबकुछ कर पाए तो हम विश्व कप जीतेंगे।”

सैमी ने कहा कि उनकी टीम की बल्लेबाजी काफी खतरनाक है और वह काफी विस्फोटक साबित हो सकती है। सैमी ने कहा, “शुरू से ही हम बाउंड्री लगाने वाली टीम रहे हैं. हम जानते हैं कि हमारी टीम में लैंडल सिमंस और जॉनसन चार्ल्स जैसे बाउंड्री लगाने वाले खिलाड़ी हैं। हमारे लिए यह टूर्नामेंट का अंतिम कदम हैं। हमारा ध्यान इंग्लैंड पर भी है और हमारे ऊपर भी है। अगर हम वह करने में सफल रहे जिसके लिए हम जाने जाते हैं तो हम इस प्रारूप में विस्फोटक साबित हो सकते हैं।”

सैमी ने कहा कि वह पिच पर ज्यादा ध्यान नहीं दे रहे हैं। उन्होंने कहा, “यह 22 गज की बात है. मैंने अभी तक पिच नहीं देखी, लेकिन यह मायने नहीं रखता।” विश्व कप में आने से पहले टीम के साथ काफी समस्याएं थीं। कुछ सीनियर खिलाड़ियों ने अनुबंध विवाद के कारण टीम से नाम वापस ले लिया था।

सैमी ने इस पर कहा, “यह काफी मुश्किल सफर रहा है। टूर्नामेंट से पहले काफी कुछ हुआ। मेरा मानना है कि हर चीज के होने का कोई ना कोई कारण होता है। विश्व कप से पहले जो हुआ उससे टीम करीब आई। यह हमारे खिलाफ सभी की लड़ाई के जैसा था।”

सैमी ने इंग्लैंड के बारे में कहा, “इंग्लैंड काफी अच्छी टीम है। हमने उन्हें ग्रुप दौर में हरा दिया था लेकिन उन्होंने अच्छी क्रिकेट खेली थी। इसलिए वह फाइनल में हैं।” उन्होंने कहा कि फाइनल में अच्छा मुकाबला होगा।

सैमी ने कहा, “हम वही करेंगे जो करते आ रहे हैं। उनके पास कई मैच जीताने वाले खिलाड़ी हैं। हम उन्हें हल्के में नहीं ले सकते। उनके लिए पहला काम हमें बाउंड्री लगाने से रोकना होगा। हम अपने आप को ही हरा सकते हैं।अगर हम अच्छा खेलते हैं तो हमें कोई नहीं हरा सकता।”