फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा- 'ISIS से लड़ाई में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे'

नई दिल्ली (25 जनवरी): फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद सोमवार को दिल्ली के राष्ट्रपति भवन पहुंचे। वहां उनका भव्य स्वागत किया गया। उन्होंने कहा कि दुनिया के सबसे खूंखार आतंकी संगठन ISIS के खिलाफ लड़ाई में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि फ्रांस ISIS से डरने वाला नहीं है। हम उसका पूरी तरह खात्मा करके ही दम लेंगे। 

पिछले साथ ISIS ने फ्रांस के शहर पेरिस में कई हमले किए थे। इसमें सैकड़ों लोगों और बच्चों की जान चली गई थी। इसके बाद फ्रांस ने देश में अपातकाल लगाकर ISIS पर लगातार हमले किए। उन्होंने कहा कि आतंक के खिलाफ भारत की लड़ाई में फ्रांस भी साथ है। 

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उनका स्वागत किया और इसके बाद उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। राष्ट्रपति भवन से ओलांद सीधे राजघाट पहुंचे और महात्मा गांधी को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इससे पहले एक इंटरव्यू में ओलांद ने कहा, 'राफेल भारत और फ्रांस के लिए एक मेजर प्रोजेक्ट है। इस एग्रीमेंट में कई टेक्निकल पहलू हैं। इसके कारण इसमें समय लग रहा है। लेकिन हम सही ट्रैक पर हैं।' इस बीच फ्रांस से होनी वाली राफेल डील की बात भी चर्चा में है।

क्या है राफेल डील? पीएम मोदी ने पिछले साल फ्रांस के दौरे पर गए थे। इस दौरान उन्होंने फ्रांस से 36 राफेल विमान के सौदे की बात कही थी। इस सौदे को लेकर 60 हजार करोड़ की डील होनी है। डील सिर्फ पैसे पर अटकी है। फ्रांसीसी कंपनी की कीमत भारत को मंजूर नहीं है। बता दें कि फ्रांस की 100 लोगों की एक हाई लेवल टीम फाइनल बातचीत के लिए दिल्ली आई हुई है।