लातूर पहुंची वाटर ट्रेन, लगी क्रेडिट लेने की होड़

लातूर (12 मार्च): हमारे देश के नेता किसी भी अवस्था में अपना हीत साध ही लेते हैं। मंगलवार को जैसे ही वाटर ट्रेन लातूर पहुंची प्यास से मचल रहे इलाके के लोगों के बीच खुशियों की लहर दौड़ गई। लेकिन हमारे रहनुमाओं को अपने फायदे दिख रहे थे।

ट्रेन के लातूर पहुंचने के कुछ समय बाद ही बीजेपी के कार्यकर्ता ट्रेन के उपर चढ़ गए औऱ अपने नेताओं के पोस्टर लगाने लगे। इन लोगों ने पोस्टर के जरिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और रेलमंत्री सुरेश प्रभु का धन्यवाद दिया। वहीं स्थानीय कांग्रेस नेता और मेयर अख्तर शेक जिन्होंने ट्रेन को वहां पर रिसीव किया, ने कहा कि पानी के इंतजाम के लिए उन्हें भी क्रेडिट दिया जाना चाहिए क्योंकि म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन में उनका बहुमत है और वे भी लगातार लोगों तक पानी पहुंचाने के प्रयास में लगे रहे।

मध्य रेलवे के प्रमुख प्रवक्ता नरेंद्र पाटिल ने कहा, 10 डिब्बों की इस पहली खेप में प्रत्येक डिब्बे में 50 हजार लीटर की क्षमता है। इन डिब्बों में पानी सांगली जिले के मिराज रेलवे स्टेशन पर भरा गया था। जिला प्रशासन ने लातूर रेलवे स्टेशन के पास स्थित एक बड़े कुएं को अधिग्रहित किया है। ट्रेन से लाए गए पानी को इस कुंए में जमा करके रखा जाएगा और फिर यहां से इसकी आपूर्ति लातूर शहर में की जाएगी।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में सूखे से प्रभावित मराठवाड़ा के गांवों से लोग शहरों की तरफ पलायन को मजबूर हो रहे हैं। मुंबई के घाटकोपर इलाके में ऐसे लगभग 500 खेतिहर मजदूर और किसान रह रहे हैं। नांदेड़ और लातूर से आए इन किसानों के पास गांव में न काम है, न पैसा, हालांकि शहर में भी इनके रहने के हालात बदतर ही हैं।