जाट आंदोलन: मुनक नहर प्रदर्शकारियों के कब्जे में, दिल्ली में पानी की किल्लत

नई दिल्ली(21 फरवरी): हरियाणा में आरक्षण की जंग को लेकर बड़ा हाहाकार मच गया है। ओबीसी कोटे में आरक्षण की मांग पर अड़े जाटों के आंदोलन ने हरियाणा के नौ शहरों को अपनी चपेट में ऐसा लिया है कि पांच शहरों में कर्फ्यू लगाना पड़ गया है। सेना और अर्धसैनिक बलों की टुकड़ियां फ्लैग मार्च कर रही हैं। हरियाणा में इस वक्त कम से कम पांच सौ सड़कों पर जाट जाम लगाकर बैठ गए हैं। दिल्ली तक इसका असर देखने को मिलने लगा है।

हरियाणा में जारी जाट आंदोलन के कारण दिल्ली में गंभीर जल संकट पैदा हो गया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में सप्लाई होने वाला पानी 2 दिन से बंद है। जाट आंदोलन के चलते दिल्ली में पानी की किल्लत को लेकर आज सीएम अरविंद केजरीवाल के घऱ पर आपात बैठक भी हुई।  बैठक में डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, जल बोर्ड अध्यक्ष कपिल मिश्रा, जल बोर्ड सीईओ, एनडीएमसी के सचिव मौजूद थे।

बैठक के बाद केजरीवाल ने कहा कि हरियाणा में जो आंदोलन चल रहा है उसके चलते मुनक नहर से पानी नहीं आ रहा है। परसों रात से सप्लाई बंद है जिसकी वजह से दिल्ली में पानी का संकट हो गया है। हम गृह मंत्रालय औऱ हरियाणा सरकार से लगातार संपर्क में हैं कि किसी तरह से वहां से पानी चालू करवाया जाए।मुझे उम्मीद है कि राजनाथ जी और खट्टर जी अपनी तरफ से कोशिश कर रहे हैं। लेकिन दिल्ली को इसके लिए तैयार होना होगा और अगर पानी चालू होता भी है तो 24 घंटे लगेंगे कम से कम। इसलिए एमरजेंसी मीटिंग में ये फैसला लिया गया कि राष्ट्रपति, पीएम, डिफेंस और हॉस्पिटल को छोड़कर बाकी सबको बराबरी का पानी दिया जाएगा। इस राशनिंग में हम भी शामिल हैं। इसलिए दिल्ली से अपील है कि जितना पानी है उसमें ही किसी तरह से गुजारा करें।  कल सारे स्कूल भी बंद रहेंगे। बहुत ही कम पानी बचा है। 7 ट्रीटमेंट प्लांट में पानी खत्म हो गया है।