WATCH: इस मंदिर से भगवान ने लिया था शादी के लिए लोन

भूपेंद्र ठाकुर, वडोदरा (28 जून): हज़ारों साल से एक वक्त था जब भगवान को भी अपने विवाह के लिए लोन लेना पड़ा था। आप शायद इस पर यकीन न करें, लेकिन शास्त्रों से लेकर पुराणों तक में इसका ज़िक्र है। तब भगवान को कर्ज़ देने वाले थे कुबेर। ये सबकुछ हजारों साल पहले हुआ।

जी हां, न्यूज़ 24 हज़ारों साल पुराने उस राज़ से पर्दा उठाने जा रहा है जिसके गवाह देवों के देव महादेव से लेकर भगवान बालाजी तक हैं। वडोदरा से 36 मील दूर करनाली में बसे कुबेर भंडारी अपने अंदर कई राज़ समेटे हुए है। ऐसे रहस्य जो युगों-युगों से हमारे साथ मौजूद रहे हैं और जिनका संबंध आज भी इंसान के जीवन से है। 

ये कहानी शुरु होती है त्रेतायुग से। बहुत कम लोग जानते होंगे कि रावण का एक बड़ा भाई था कुबेर। कुबेर रावण का सौतेला भाई था, बड़ा होने की वजह से कुबेर को राज्य की ज़िम्मेदारी सौंपी गई। साथ ही उसे मिली बहुत सारी दौलत। ये रावण को बिल्कुल मंज़ूर नहीं था। रावण ने कुबेर से उसका राजपाट सब छीन लिया। 

रावण को जैसे ही इस बात की खबर लगी कि कुबेर को स्वर्ग के खजाने का खजांची बना दिया गया है तो वो फिर कुबेर के पीछे लग गया। कुबेर को खत्म करने के लिए रावण ने कुबेर का पीछा शुरू किया तब कुबेर ने शिव भगवान की शरण ली। भगवान शिव के सामरे धर्मसंकट था, क्योंकि कुबेर के साथ ही रावण भी शिवजी का परमभक्त था। तब भगवान शिव ने कुबेर से कहा, ''तुम दोंनो ही मेरे भक्त हो, ऐसे में मैं किसका पक्ष लूं। इससे बेहतर है कि तुम मां अम्बा की शरण में जाओ और तब कुबेर ने मां दुर्गा की आराधना की।''

देखें पूरी रिपोर्ट:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=LlS9CdsOj84[/embed]