केंद्र से नीतीश की मांग, तोड़ा जाए फरक्का बैराज

सौरभ कुमार, पटना ( 20 फरवरी ): मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार से फरक्का बराज को तोड़ जाने की सिफारिश की है। इस बाबत राज्य सरकार ने गंगा के बहाव से जुड़े अध्ययन के आधार पर बनी रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा है कि फरक्का की वजह से गंगा में बड़े स्तर पर गाद जमा हो रहा है। यह गंगा में कम पानी रहने पर भी बाढ़ आने की मुख्य वजह है।

 

मुख्यमंत्री का कहना है कि गंगा के अप स्ट्रीम में जमा हो रहे गाद की मुख्य वजह फरक्का बैराज है। गाद की वजह से गंगा की स्थिति अब खतरनाक होती जा रही है। खुद मुख्यमंत्री ने उस कमेटी को यह बात कही है जिसे केंद्र सरकार ने गंगा के गाद (शिल्ट) के अध्ययन के लिए पिछले वर्ष गठित की थी। 

 

राज्य सरकार ने गंगा की गाद को लेकर गठित केंद्रीय कमेटी को यह कहा है कि पिछले वर्ष पटना और भागलपुर में जो भयावह बाढ़ आयी, उसके मूल में फरक्का बराज है।

विदित हो कि साठ के दशक में बने फरक्का बैराज को मुख्य रूप से कोलकाता बंदरगाह के लिए बनाया गया था और इसके अतिरिक्त पश्चिम बंगाल को पीने का पानी मिले, यह भी इसका उद्देश्य था।