भारत के साथ सौहार्द्रपूर्ण तरीके से सुलझाना चाहते हैं सभी विवाद

नई दिल्ली (30 दिसंबर): भारत ने अभी एक ही पेच कसा है और साल खत्म होने से पहले पाकिस्तान की पूंछ सीधी होने लगी है। साल की आखिरी प्रेस कॉंफ्रेंस में पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस ज़कारिया ने कहा कि उनका देश भारत के साथ सभी विवाद सौहार्द्रपूर्ण तरीके से सुलझाना चाहते हैं।साथ ही, पाक की ओर से यह भी कहा गया है कि सिंधु नदी समझौते को कोई भी देश एकतरफा तरीके से रद्द नहीं कर सकता है।

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने कहा, 'कश्मीर विवाद भारत और पाकिस्तान के बीच विवाद की जड़ है। साल की अपनी आखिरी ब्रीफिंग में जकारिया ने कहा, 'हम भारत के साथ सभी मुद्दों को सौहार्दपूर्ण तरीके से सुलझाना चाहते हैं। साथ ही, हम कश्मीर में भारत द्वारा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का पूरी तरह उल्लंघन करने की भी निंदा करते हैं। उरी हमले के बाद भारत के सिंधु नदी समझौते पर पुनर्विचार किए जाने के संकेतों पर जकारिया ने कहा कि कोई भी देश एकतरफा तरीके से इस समझौते में बदलाव या इसे रद्द नहीं कर सकता। उन्होंने कहा, 'पाकिस्तान स्थितियों पर नजर बनाए रखे हुए है और इस ऐतिहासिक समझौते के उल्लंघन पर अपनी रणनीति अपनाएगा।' उन्होंने कहा कि इस समझौते (सिंधु नदी समझौता) में एक मध्यस्थता तंत्र काम करता है और पहले भी इस समझौते के सभी विवाद शांति से निपटाए जाते रहे हैं।