मध्यप्रदेश: कांग्रेस सरकार बनने के बाद व्यापम मामले में पहली सजा का ऐलान

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 दिसंबर): इंदौर में सीबीआई अदालत ने व्यापमं मामले से जुड़े एक आरोपी को पांच साल की जेल की सजा सुनाई है। यह सजा मध्यप्रदेश में 2009 से संबंधित मामले में सुनाई गई है। इंदौर विशेष जज जेपी सिंह की कोर्ट में मनोज पुत्र रामप्रसाद जाटव को पांच साल सश्रम कैद की सजा सुनाई गई। मामले में सीबीआई की ओर से अधिवक्ता रंजन शर्मा ने पैरवी की। 

इंदौर सीबीआई कोर्ट द्वारा व्यापम मामले में आरोपी को पांच साल की सजा सुनाई गई प्रदेश में चौथे आरोपी को अभी तक सजा मिल चुकी हे वही इंदौर में यह पहला मामला हे की जिसमें व्यापम आरोपी को सीबीआई कोर्ट ने सजा सुनाई है। दरअसल मामला 2009 पीएमटी परीक्षा का हे जिसमे मनोज नामक छात्र इंदौर के दंत चिकित्सा महाविद्यालय में किसी अन्य छात्र की जगह पढ़ाई कर रहा था। 

मध्य्प्रदेश सरकार दवरा दंत महाविद्यालय को 2006 से लेकर 2011 तक जितने पीएमटी की परीक्षा देने वाला छात्र का वेरिफिकेशन करने के आदेश दिए गए थे दंत चिकित्सा महाविद्यालय के प्राचार्य द्वारा किए गए वेरिफिकेशन में पीएमटी परीक्षा देने वाले छात्र और कालेज में पढ़ाई कर रहे छात्र का फोटो मिलान किया गया जिसमे दोनों छात्र अलग पाए गए, जिसको लेकर प्राचार्य दवरा सयोगितागंज पुलिस थाने में आरोपी छात्र मनोज जाटव के नाम लिखित आवेदन दिया गया था।

आवेदन के बाद सयोगितागंज ठाणे दवरा आरोपी के खिलाफ एफआईआर की गई थी सर्वोच्च न्यालय ने व्यापम की जाँच सीबीआई को सौंपी थी। सीबीआई द्वारा अनुसंधान करते हुवे सीएफएल और एफएसएल जाँच करवाने के बाद कोर्ट में 36 गवाह पेश किए थे। गवाह के कथन होने के बाद सीबीआई कोर्ट ने आरोपी मनोज जाटव को पांच साल की सजा सुनाई है। इंदौर सीबीआई कोर्ट ने व्यापम मामले में पहले आरोपी को सजा सुनाई है, वहीं प्रदेश में आजतक चार आरोपी को व्यापम मामले में दोषी पाकर सजा सुनाई जा चुकी है।