बाबा विश्वनाथ का करना है दर्शन, पढें ये अच्छी खबर!

वाराणसी(5 अगस्त): बाबा विश्वनाथ के दर्शन के लिए भक्तों को अब घंटों इंतजार नहीं करना होगा। न्यास परिषद 33 साल पुरानी इस समस्या के समाधान की दिशा में कदम बढ़ाने जा रहा है।

- विश्वनाथ मंदिर विस्तारीकरण योजना के तहत मंदिर के भीतर एक साथ एक से 1.50 लाख भक्तों के बैठने की सुविधा दी जाएगी, ताकि भक्तों को बाबा के दरबार में पहुंचने के लिए खुले आसमान के नीचे बैरीकेडिंग के बीच धूप, बारिश का सामना करते हुए घंटों खड़ा न होना पड़े।

- फिलहाल विशेष अवसरों पर भक्तों को 24 घंटे तक कतार में लगना पड़ता है। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर न्यास परिषद के अध्यक्ष आचार्य पं. अशोक द्विवेदी का कहना है कि वह देश के सभी धर्मार्थ ट्रस्टों में अब तक की सबसे अव्वल दर्जे की सुगम व्यवस्था बाबा विश्वनाथ के भक्तों को देने की योजना है।

- अध्यक्ष ने बताया कि फिलहाल सावन के सोमवार के अलावा महाशिवरात्रि, त्रयोदशी, ग्रहण स्नान पर्व, कुंभ पर्व और पितृपक्ष के दौरान लाखों भक्तों की भीड़ उमड़ने से लंबी कतारें लग जाती हैं।

- संकरी गली में बाबा का दरबार होने की वजह से सुरक्षा का भी ध्यान रखा जाता है, ऐसे में लक्सा से दशाश्वमेध-बांसफाटक, ज्ञानवापी होते हुए मैदागिन तक पांच किमी तक लंबी कतार लग जाती है।

- न्यास परिषद की विश्वनाथ मंदिर आवासीय योजना में उन लोगों को उसी इलाके में बसाने की योजना बनाई जा रही है, जिनके भवनों को खरीदा जाएगा। वहां व्यवसायियों के लिए माडर्न शॉप भी बनाकर आवंटित की जाएगी, ताकि किसी को तकलीफ न पहुंचने पाए।

- योजनाएं बनीं, साकार नहीं हुईं काशी विश्वनाथ मंदिर में अधिग्रहण के बाद योजनाएं तो बहुत बनीं लेकिन न्यास और अफसरों के बीच तालमेल न होने के कारण उनको मूर्त रूप नहीं दिया जा सका।

-  काशी विश्वनाथ गोशाला, काशी विश्वनाथ यज्ञशाला के अलावा काशी विश्वनाथ महिला डिग्री कॉलेज और स्वर्ण शिखर के जीर्णोद्धार की योजनाएं अब तक साकार नहीं हो सकी हैं।