गुरु-चेले की बीच चल रही है सबसे बड़ी जंग...

नई दिल्ली (30 मई): टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले के बीच टकराव की खबरें आ रही है। नेट्स पर भी कुंबले टीम के खिलाड़ियों के साथ अलग-थलग दिखाई दिए। इतना ही नहीं न्यूजीलैंड के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में जीत के बाद विराट की डिनर पार्टी से भी कोच कुंबले दूर ही नजर आए।

दरअसल कप्तान कोहली को कोच कुंबले की गाइडेंस पसंद नहीं है। कहा जा रहा है कि कोहली के अलावा कई दूसरे सीनियर प्लेयर्स भी कुंबले के टीम को गाइड करने के तरीके से खुश नहीं हैं। चैंपियंस ट्रॉफी से ठीक पहले टीम में खटपट की इन खबरों से बोर्ड भी परेशान है। टीम से जुड़े सूत्रों के मुताबिक कोच कुंबले हार्ड टास्क के साथ काम करना पसंद करते हैं, जिससे टीम के सीनियर प्लेयर्स नाखुश हैं। सूत्रों के मुताबिक टीम प्लेयर्स कोच अनिल कुंबले के रौबदार रवैये से खुश नहीं हैं। साथ ही खिलाड़ियों को कुंबले से ये भी शिकायत है कि वह उन्हें ड्रेसिंग रूम में भी आजादी नहीं देते हैं।

हालांकि कोच और कप्तान के बीच चल रही खटपट को खत्म करने की कोशिशें शुरू हो गई हैं। इसकी जिम्मेदारी एडवाइजरी पैनल के मेंबर सचिन तेंदुलकर, सौरभ गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण को सौंपी गई है। अनिल कुंबले को साल 2016 में क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी में शामिल सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण ने एक साल के लिए कोच नियुक्त किया था। कुंबले के कोच रहने के दौरान टीम की परफॉर्मेंस पर नजर डालें तो यह सुधरी है। होम टेस्ट सीजन में कुल 13 मैचों में टीम इंडिया ने एक मैच हारा है, जबकि दस मैचों में जीत हासिल की है। इसके अलावा दो मैच ड्रॉ हुए हैं।

एडवाइजरी कमेटी को टीम इंडिया के अगले कोच की नियुक्ति की जिम्मेदारी सौंपी गई है। पिछले एक साल में टीम इंडिया के बेहतरीन प्रदर्शन के चलते कुंबले कोच की दौड़ में सबसे आगे चल रहे हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि कुंबले की 2019 तक टीम के कोच के तौर पर जिम्मेदारी बढ़ाई जा सकती है। वैसे राहुल द्रविड़ और वीरेंद्र सहवाग का नाम भी कोच की रेस में चल रहा है।

कुंबले का कॉन्ट्रेक्ट चैंपियंस ट्रॉफी के बाद खत्म हो रहा है। इसके बाद नए कोच का चुनाव किया जाना है। बीसीसीआई का एक धड़ा कुंबले के कार्यकाल का विस्तार करने के पक्ष में है जबकि दूसरा धड़ा नए कोच की नियुक्ति चाहता है। क्योंकि कोहली अब कुंबले के साथ काम करने के मूड में नहीं हैं। अब देखने वाली बात ये होगी कि क्या अनिल कुंबले की जगह टीम को नया कोच मिलता है या फिर कोहली-कुंबले के बीच सुलह कराई जाती है।