VIP कल्चर का नहीं छूट रहा मोह, लालबत्ती बुझी तो ढूंढा ये तरीका

नई दिल्ली (2 मई): 1 मई से मंत्री-अफसर समेत हर तरह के VIP की गाड़ियों पर से लाल, पीली और नीली बत्ती का इस्तेमाल बंद हो गया। राष्ट्रपति, पीएम, सीएम हो या कोई भी मंत्री उनकी गाड़ियों से लालबत्ती पर रोक लगा दी गई। मोटर व्हीकल एक्ट के तहत ट्रैफिक इंस्पेक्टर न सिर्फ बत्ती उतरवाएगा, बल्कि 3000 रुपए जुर्माना भी करेगा।लेकिन अभी भी कुछ नेताओं का लालबत्ती से मोह छूटा नहीं है। भले ही वे लालबत्ती नहीं लगा सकते लेकिन उन्होंने इसकी काट निकाल ली है। कई राज्यों में नेताओं ने नया जुगाड़ निकालते हुए अपनी गाड़ियों पर साइरन (हूटर) का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। इतना ही नहीं कुछ नेताओं ने तो अपनी गाड़ी में पोस्ट के साथ नेम प्लेट भी लगा लिया है।


मध्य प्रदेश और तेलंगाना में तो इसकी शुरुआत हो गई है।मध्य प्रदेश में कुछ नेताओं ने अनमने मन से लालबत्ती हटा तो ली लेकिन साथ ही हूटर लगवा लिए। हालांकि केंद्रीय मोटर वाहन नियम किसी भी वाहन को ऐसा करने की इजाजत नहीं देते। इसके सेक्शन 119 में सिर्फ एम्बुलेंस, फायर ब्रिगेड, कंस्ट्रक्शन के उपकरण ले जाने वाले वाहनों और पुलिस को इसके इस्तेमाल की इजाजत है। इनके अलावा कोई और अपनी कार में हूटर लगाता है तो उस पर 5000 रुपए जुर्माना लगाया जा सकता है। हैदराबाद का हाल भी कुछ ऐसा ही है। यहां भी लोग सायरन की आवाज से परेशान हो रहे हैं। महाराष्ट्र की बात की जाए तो वहां के नेता भी कोई ऐसा रास्ता खोजने में जुटे हैं।