खुद जुटाए 6 करोड़ रुपये और साफ कर डाली 18 KM नदी

मराठवाड़ा (22 जून): सूखे की सबसे ज्यादा मार महाराष्ट्र के विदर्भ और मराठवाड़ा में पड़ी है। यहां पर सूखे को हराने की जिद हर किसान लगा हुआ है। लातूर में लोगों ने खुद 6 करोड़ रुपए इकट्ठा कर मांजरा नदी की 18 किमी तक सफाई कर डाली, ताकि बारिश हो तो ज्यादा पानी सहेजा जा सके।

सूखे की मार लातूर, बीड़ और उस्मानाबाद जिलों में ज्यादा पड़ी। पानी की ट्रेन के कारण लातूर का नाम सुर्खियों में रहा। यहां भी लोगों को लगा कि पानी बचाने के लिए कुछ करना चाहिए। संघ और आर्ट ऑफ लिविंग ने यहां नदी के गहरीकरण के लिए काम शुरू किया। देखते ही देखते सामाजिक संगठन, व्यवसायी और आम लोग जुड़ने लगे और 6 करोड़ रुपए इकट्ठा किए गए।

यहां मांजरा नदी की 18 किमी तक सफाई और गहरीकरण किया गया। फिल्म स्टार रितेश देशमुख और राजनीतिक पार्टियों के नेता भी अभियान से जुड़ गए। इसी तरह एक करोड़ रुपए खर्च कर तेरणा नदी को भी जिंदा किया गया। बीड़ और उस्मानाबाद में लोगों के सहयोग से पानी बचाने के काम हो रहे हैं। नदियों की सफाई और गहरीकरण के बाद अब इंतजार है तो अच्छी बारिश का।