राज्यसभा से सैलरी-अलाउंस लेने से नहीं चूके माल्या, ये हुआ खुलासा

नई दिल्ली(23 अप्रैल): विजय माल्या अपनी किंगसाइज लाइफस्टाइल के लिए जाने जाते हैं। माल्या बिजनसमैन होने के साथ राज्यसभा सांसद भी हैं। बैंको का पैसा देने में वह लगातार चूक रहे हैं, लेकिन राज्यसभा सांसद होने का फायदा उठाने से वह कभी नहीं चूके। माल्या राज्यसभा मेंबर की सैलरी और अन्य अलाउंस का क्लेम लगातार लेते रहै। इसका खुलासा हुआ एक आरटीआई से। 

बरेली के एक्टिविस्ट खालिद जीलानी द्वारा लगाई आरटीआई से मालूम पड़ा कि माल्या अलाउंस और टेलिफोन का किराया भी लेते थे। बता देंं राज्यसभा मेंबर को हर महीने 50 हजार रुपए सैलरी और 20 हजार रुपए कॉन्स्टीट्यूएंसी अलाउंस मिलता है। 

एक आरटीआई के जवाब में राज्यसभा सेक्रेटरिएट ने ये जानकारी दी है। आरटीआई के मुताबिक, माल्या सेलरी के अलावा मिलने वाले कॉन्स्टीट्यूएंसी अलाउंस और टेलिफोन रिएम्बर्समेंट भी लेते थे। जीलानी के मुताबिक, 'किंगसाइज लाइफस्टाइल के लिए मशहूर माल्या के लिए इस तरह की फैसिलिटी लेना चौंकाता है।'

आरटीआई के मुताबिक 1 जुलाई 2010 से 30 सितंबर, 2010 के बीच 45 हजार अलाउंस लिया। इसी बीच उन्होंने 6 हजार रुपए प्रति महीने के हिसाब से ऑफिस का खर्च भी लिया।  

फोन का बिल 1.73 लाख

- माल्या ने अपने ऑफिशियल फोन का बिल 1.73 लाख रुपए लिया।

- बता दें कि राज्यसभा मेंबर को 50 हजार कॉल फ्री होते हैं। 

- 2002 में माल्या कांग्रेस और जेडीयू (एस) के सपोर्ट से राज्यसभा मेंबर चुने गए थे।

- इसके बाद 2010 में वे दोबारा बीजेपी और जेडीयू (एस) के सपोर्ट से चुने गए।

- माल्या का टेन्योर इस साल जुलाई में खत्म हो रहा है।