''माल्या से पैसा नहीं, उन्हें जेल भेजना चाहते हैं बैंक''

नई दिल्ली (26 अप्रैल): बैंकों के 6 हजार करोड़ रुपये के कर्जदार उद्योगपति विजय माल्या के वकील ने सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई दौरान कहा कि बैंकों का जोर लोन वापस लेने पर न होकर माल्या को जेल भेजने पर है।

सुनवाई के दौरान माल्या के वकील ने कहा कि बैंक माल्या को जेल भेजने में ज्यादा रुचि दिखा रहे हैं। उनकी रुचि लोन वापस लेने में नहीं है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने माल्या की सारी संपत्ति का ब्यौरा बैंको को दिया। इसके साथ ही डेब्ट्स रिकवरी ट्रिब्यूनल को कहा कि दो महीने में इस मामले की निपटारा करें।

इस पर अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि वो भगोड़े हैं। उनका पासपोर्ट रद्द हो चुका है। अगर वो वापस आने को तैयार हैं तो भारत सरकार उनके एक बार वापस आने का इंतजाम कर सकती है। अटार्नी जनरल बैंकों की तरफ से पेश हुए थे।