'किगं फिशर की तरह फुर्र हो गये विजय माल्या- बॉम्बे हाईकोर्ट

नई दिल्ली (19 सितंबर): बैंकों का हजारों करोड़ रुपया नहीं चुका रहे और भागकर ब्रिटेन में रह रहे कारोबारी विजय माल्या के  खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी की है। कोर्ट ने कहा है कि माल्या ने बहुत ही कुशलता के साथ अपनी कंपनी का नाम 'किंगफिशर' रखा क्यों कि इस नाम की चिड़‍िया की तरह वो भी सीमाओं की परवाह किए बिना फुर्र हो गए।

बॉम्बे हाई कोर्ट के जस्टिस एससी धर्माधिकारी और बीपी कोलाबवाला की डिविजन बेंच ने सोमवार को सर्विस टैक्स डिपार्टमेंट की तरफ से दाखिल एक अपील पर सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की। इस दौरान कोर्ट ने डिपार्टमेंट की तरफ से दाखिल उस याचिका पर भी सुनवाई की जिसमें माल्‍या के प्राइवेट एयरक्राफ्ट की नीलामी वापस लेने की मांग की गई थी। सुनवाई के दौरान जस्टिस धर्माधिकारी ने कहा, 'क्या किसी को मालूम है कि माल्या ने अपनी कंपनी का नाम 'किंगफिशर'  क्यों रखा? इतिहास में किसी ने भी अपनी कंपनी का इतना सटीक नाम नहीं रखा। चूंकि किंगफिशर एक चिड़‍िया है जो उड़कर कहीं भी जा सकती है...उसे किसी भी सीमा की परवाह नहीं...कोई भी सीमा उसे रोक नहीं सकती। ठीक उसी तरह उन्हे  भी कोई रोक नहीं सका।'