विजय माल्या पर केस दर्ज, नहीं निकाल सकेंगे बैंक में जमा पैसा

नई दिल्ली (7 मार्च): प्रवर्तन निदेशालय ने विजय माल्या के ख‍िलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज कर लिया है। उन पर भारतीय स्टेट बैंक समेत कई बैंकों के डिफॉल्टर होने का आरोप है। मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि जब तक केस चल रहा है, माल्या डिएजियो कंपनी से मिले 515 करोड़ रुपये बैंक से नहीं निकाल सकते हैं। मामले में अगली सुनवाई 28 मार्च को होनी है।

ईडी ने सीबीआई की श‍िकायत पर माल्या के ख‍िलाफ केस दर्ज किया है। सूत्रों ने बताया कि ईडी अध‍िकारी जल्द ही माल्या से पूछताछ कर सकते हैं। विजय माल्या के साथ-साथ किंगफिशर एयरलाइंस के चीफ फाइनेंश‍ियल ऑफिसर ए रघुनाथन, आईडीबीआई बैंक के पूर्व सीएमडी योगेश अग्रवाल, आईडीबीआई बैंक के सदस्य बीके बत्रा और इसी बैंक के दो-तीन और अधिकारियों के ख‍िलाफ एनफोर्समेंट केस इन्फॉर्मेशन रिपोर्ट (ECIR) दर्ज की गई है। इन सबके ख‍िलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) की धारा 3 और 4 के तहत केस दर्ज किया गया है।

किंगफिशर एयरलाइंस के हजारों करोड़ रुपए का कर्ज चुकाने में असफल रहे विजय माल्या की गिरफ्तारी और उनका पासपोर्ट जब्त कराने के लिए एसबीआई ने कर्नाटक हाईकोर्ट में याचिका भी दायर की थी। एसबीआई के नेतृत्व में 17 सरकारी और निजी बैंकों के कंशोर्श‍ियम का किंगफिशर लिमिटेड पर 7,800 करोड़ रुपए बकाया है।