आज ही हुआ था पाक का दो टुकड़ा, बना था बांग्लादेश

नई दिल्ली (16 दिसंबर): आज देश विजय दिवस मना रहा है। आज ही के दिन 16 दिसंबर 1971 को भारतीय सेना के जाबांजों ने पाकिस्तानी सेना को धूल चटाते हुए ढ़ाका में तिरंगा फहराया था। आज ही के दिन पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए है और बांग्लादेश बना था।

1971 के युद्ध में भारतीय सेना के आगे पाकिस्तानी सेना बेबस और लाचार हो गई। उसके पास भारतीय सेना का कोई जवाब नहीं था। युद्ध में भारत की जीत के साथ दुनिया के मानचित्र में एक नए देश बंग्लादेश का उदय हुआ। बंग्लादेश बनने से पहले उस हिस्से को पूर्वी पाकिस्तान के नाम से जाना जाता था।

14 दिनों तक चले इस युद्ध में भारतीय सेना की अगुवाई जनरल सैम मानेकशॉ ने की। उनके नेतृत्व में भारतीय सेना ने दुश्मनों के दांत खट्टे कर दिए। नतीजन 16 दिसंबर 1971 को पाकिस्तानी सेना का नेतृत्व कर जनरल एके नियाजी ने अपने 93000 सैनिकों के साथ भारतीय सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल जगदीश सिंह अरोड़ के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। इस युद्ध में भारतीय सेना के 3843 सैनिक शहीद हुए। जबकि 9000 से ज्यादा पाकिस्तानी सैनिक मारे गए।

सैम होर्मूसजी फ्रेमजी जमशेदजी मानेकशॉ तत्तकालिन सेना प्रमुख थे। जिनकी अगुवाई में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों को 1971 में धूल चटाई। और नए देश बंग्लादेश का जन्म हुआ।