वंदे मातरम् विवाद पर बोले उपराष्ट्रपति- मां को सलाम नहीं करेंगे तो क्या अफजल को करेंगे?

नई दिल्ली(8 दिसंबर): उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने राष्ट्रगीत 'वंदे मातरम्' का विरोध करने वालों को आड़े हाथों लिया। एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ''वंदे मातरम् के बारे में विवाद होता है। इसका मतलब है मां तुझे सलाम। इसमें क्या परेशानी है। अगर मां को सलाम नहीं करेंगे तो क्या अफजल गुरु को करेंगे?''

-  वेंकैया गुरुवार को विश्व हिंदू परिषद् के दिवंगत अध्यक्ष अशोक सिंघल की बुक लॉन्च इवेंट में शामिल हुए थे। बता दें आतंकी अफजल संसद पर हमले का दोषी था, जिसे फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है।

- वेंकैया ने 1995 में दिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का जिक्र करते हुए कहा कि हिंदुत्व कोई धर्म नहीं, बल्कि जिंदगी जीने का रास्ता है। हिंदूवादी होना संकुचित विचारधारा नहीं, यह बड़े स्तर पर फैली भारतीय संस्कृति का प्रतिनिधित्व करता है।

- वैंकेया ने कहा कि हिंदू धर्म सालों से चली आ रही भारतीय संस्कृति और परंपरा है। इसमें पूजा-पाठ के तरीके अलग हो सकते हैं, लेकिन जिंदगी जीने का रास्ता एक जैसा है।

- भारतीयों के अहिंसावादी रवैये के चलते हर टॉम, डिक और हैरी (एक फिल्म के कैरेक्टर) देश पर हमला करते, शासन करते और लूटपाट करते आए हैं। लेकिन हमारी संस्कृति ऐसी नहीं है कि किसी देश पर हमला किया हो। हमारी संस्कृति वसुधैव कुटुम्बकम है। इसका मतलब है कि पूरी दुनिया एक परिवार है।