Blog single photo

जब वेंकैया नायडू ने सदन में पूछा ये बुलबुल क्या है ?

ये बुलबुल क्या है ? ये बुलबुल क्या है ? दरअसल सांसदों के मुंह से बार बार बुलबुल शब्द का नाम सुनकर उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू बेहद अचंभित हो गए कि आखिरकार सांसद बार बार बुलबुल - बुलबुल शब्द का नाम क्यों ले रहे हैं ?

Cyclone Bulbul

मनीष कुमार, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 नवंबर): ये बुलबुल (Bulbul) क्या है ? ये बुलबुल क्या है ? दरअसल सांसदों के मुंह से बार बार बुलबुल शब्द का नाम सुनकर उपराष्ट्रपति (Vice President) और राज्यसभा (Rajya Sabha) के सभापति वेंकैया नायडू (Venkaiah Naidu) बेहद अचंभित हो गए कि आखिरकार सांसद बार बार बुलबुल - बुलबुल शब्द का नाम क्यों ले रहे हैं ? दरअसल पश्चिम बंगाल (West Bengal) से तृणमूल कांग्रेस के सांसद नदीम उल हक और मानस रंजन भूनिया ने बुलबुल तूफान (Cyclone Bulbul) की वजह से पश्चिम बंगाल में हुए नुकसान का मुद्दा राज्यसभा में उठाया।

Cyclone Bulbul

पहले नदीम उल हक ने बुलबुल तूफान (Cyclone Bulbul) से हुई तबाही की सदन को जानकारी दी और उसके बाद किस तरह से राहत और बचाव कार्य चलाया गया उसके बारे में सदन को बताया। उनके बाद मानस रंजन भूनिया ने यही बताया कि बुलबुल कितना बड़ा तूफान था और उससे राज्य को किस तरह का नुकसान हुआ। जब दोनों सांसदों ने अपनी बात सदन के सामने रख ली कि तो सदन के सभापति वेंकैया नायडू दोनों सांसदों के भाषण के खत्म होने के बाद पूछा आखिर ये बुलबुल क्या है! समझ नहीं आया। जिसके बाद में सांसदों ने सभापति वेंकैया नायडू को बताया कि बुलबुल एक तूफान था जिसने पश्चिम बंगाल में भारी तबाही मचाई थी।

Venkaiah Naidu

आपको पता दें कि पिछले दिनों बुलबुल तूफान ने पश्चिम बंगाल (Cyclone Bulbul) और ओडिशा (Odisha) में भारी तबही मचाई थी। करीब 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवाओं के साथ आई धुआंधार बारिश ने पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों को सिहरा दिया। इस तूफान की चपेट में आने से कम से कम 8 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि लाखों हेक्टेयर खड़ी फसल चौपट हो गई थी। चक्रवाती तूफान बुलबुल (Cyclone Bulbul) की वजह से बर्धवान, हुगली, नादिया, वेस्ट मिदनापुर और साउथ 24 परगना में हजारों हेक्टेयर खेत में खड़ी फसल बर्बाद हो गई। हजारों किसान रोजी-रोटी के मोहताज हो गए। तूफान ने न सिर्फ खेतों को बल्कि घरों को भी नुकसान पहुंचाया।  

Cyclone Bulbul

गौरतलब है कि बुलबुल तुफान ने बांग्लादेश भी भारी तबाही मचाई। यहां के निचले इलाकों में बुलबुल तूफान के कारण कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई। तेज हवा के साथ मूसलधार बारिश की वजह से लोगों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। चक्रवाती हवा की रफ्तार 120 किलोमीटर प्रति घंटा है। निचले इलाकों से करीब 21 लाख लोगों को बाहर निकालना पड़ा। 

(Image Credit: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top