राम मंदिर के लिए 2 ट्रक पत्थर अयोध्या पहुंचा

लखनऊ(21 जून): अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए वीएचपी ऑफिस में सोमवार को 2 ट्रक पत्थर लाए गए।  इससे पहले दिसंबर 2015 में 2 ट्रक पत्थर मंगवाए गए थे। तत्कालीन समाजवादी सरकार ने उस समय वणिज्यिक कर विभाग से फॉर्म 39 दिए जाने से मना कर पत्थरों के आने पर रोक लगा दी थी।

- वरिष्ठ वीएचपी नेता त्रिलोकी नाथ पांडे ने बताया, 'पिछले महीने हमने वाणिज्यिक कर विभाग के अधिकारियों से संपर्क किया और उन्होंने फॉर्म 39 जारी कर दिया जिसको पिछले एक साल से रोक कर रखा गया था।' उन्हें भरोसा है कि राज्य में बीजेपी की सरकार होने से राम मंदिर के निर्माण में अब कोई रोड़ा नहीं रह गया है।

- उन्होंने कहा, 'मंदिर के निर्माण के लिए प्रयोग होने वाले पत्थरों का 1 ट्रक राजस्थान से सोमवार को पहुंच चुका है। प्रस्तावित मंदिर के लिए अभी 100 से अधिक ट्रकों की जरूरत है। कुछ ही दिन में हम उसे भी लाने का प्रयास कर रहे हैं।' वीएचपी ने घोषणा की है कि 1 साल में मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा। जून 2015 में परिषद की एक बैठक में स्वर्गीय नेता अशोक सिंघल ने घोषणा की थी कि मंदिर के निर्माण के लिए पत्थर जुटाने को संगठन देश भर में अभियान चलाएगा।

   

-इस घटना पर बाबरी विध्वंस मामले में पार्टी, खालिक अहमद खान, का कहना है कि पत्थरों का आना लोगों को यह बताने के लिए है कि भगवा ताकतें राम मंदिर बनाने को लेकर कितनी गंभीर हैं। वह कहते हैं, 'वीएचपी ऑफिस में पत्थरों का आना या ऐसी किसी भी गतिविधि का कोई असर नहीं पड़ेगा क्योंकि यह मामला अदालत में है और भूमि पर फैसला अभी हुआ नहीं है। हमें अपने संविधान और सुप्रीम कोर्ट में पूरा विश्वास है। '