'देश के हर गांव में बनेगा राम मंदिर, रामनवमी से शुरू होगा काम'

नई दिल्ली (12 जनवरी): एक बार फिर से राम मंदिर का मामला सुर्खियों में आ गया है। विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता शरद शर्मा ने कहा है कि संगठन हर गांव में भगवान राम का मंदिर बनाएगा।

शर्मा ने कहा कि 15 अप्रैल से शुरू हो रही रामनवमी के दिन से ही राम मंदिर के निर्माण का काम शुरू किया जाएगा। वहीं उत्तर प्रदेश में सरकार ने कहा है कि अदालत की अनुमति के बिना अयोध्या में विवादित स्थल पर मंदिर निर्माण की इजाजत नहीं दी जाएगी।

रामनवमी के दौरान भगवान राम की हर गांव में पूजा की जाएगी। और पूजा के बाद चाहे मूर्ति हो या चित्र इनकी स्थापना की जाएगी। इससे पहले बीजेपी सांसद साक्षी महाराज के मंदिर बनाने का बयान आया था। जिसमें साक्षी महाराज ने डंके की चोट पर राम मंदिर के बनाने की बात कही थी। साक्षी महाराज ने कहा था कि 2019 तक राम मंदिर बन जाएगा।

2019 में होने हैं चुनाव जैसा कि आप जानते हैं कि 2019 में लोकसभा के चुनाव होने हैं। अगर साक्षी महराज की माने तो अगले लोकसभा चुनाव के पहले अयोध्या में राम मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा, लेकिन सवाल ये है कि ऐसा होगा कैसे। साक्षी महाराज कुछ भी साफ-साफ तो नहीं कहते, लेकिन इस सवाल के जवाब में वो तीन विकल्प जरुर बताते हैं, जिनके जरिए राम मंदिर बन सकता है।

सुप्रीम कोर्ट में है मंदिर का मसला ये बात पूरा देश जानता है कि राम मंदिर का मसला सुप्रीम कोर्ट में है। खुद बीजेपी के बड़े नेता भी कोर्ट के फैसले के साथ ही राम मंदिर मुद्दे का हल चाहने का दावा करते हैं। लेकिन उससे पहले ही स्वामी राम मंदिर निर्माण के लिए दिसंबर का वक्त तय करते हैं तो विरोधी इसमें साजिश सूंघ रहे हैं।