Blog single photo

जारी होगा 50000 का नोट, फिर भी नहीं खरीद सकेंगे 2 किलो सेब

राष्ट्रपति निकोलस मदुरो ने पिछले वर्ष एक लाख की मुद्रा से पांच जीरो हटा दिए थे और इसकी कीमत 1 बोलिवर कर दी थी। यह कदम कैश की किल्लत को दूर करने के लिए उठाया गया था, ताकि डेबिट और क्रेडिट पर निर्भरता कम की जा सके।

notes

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 जून): वेनेजुएला एक ऐसा देश जिसके पास कभी दुनिया का सबसे बड़ा तेल का भंडार था और यह लैटिन अमेरिका के सबसे समृद्ध देशों में शुमार था, लेकिन पिछले कुछ सालों में महंगाई की मार से देश की अर्थव्यवस्था त्रस्त हो चुकी है। चीजों के दाम इतने ज्यादा बढ़ चुके हैं कि लोग एक पैकेट ब्रेड के लिए भी बोरियों में भरकर पैसे ले जा रहे हैं। 

इसी मुश्किल को देखते हुए वेनेजुएला के केंद्रीय बैंक बहुत बड़े मूल्य के बैंक नोट जारी करने जा रहा है। वेनेजुएला के केंद्रीय बैंक ने बुधवार को ऐलान किया कि वह ज्यादा राशि के नए बैंकनोट जारी करेगी, केंद्रीय बैंक के मुताबिक, मंगलवार से 10,000, 20,000 और 50,000 बोलिवर (वेनेजुएला की मुद्रा) के नए नोट जारी करेगी ताकि सुविधाजनक भुगतान और व्यावसायिक लेन-देन किया जा सके। 

हालांकि, सबसे बड़े बैंक नोट से भी यहां आप मुश्किल से केवल 1 किलो सेब खरीद पाएंगे। वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मदुरो ने पिछले वर्ष एक लाख की मुद्रा से पांच जीरो हटा दिए थे और इसकी कीमत 1 बोलिवर कर दी थी। यह कदम कैश की किल्लत को दूर करने के लिए उठाया गया था, ताकि डेबिट और क्रेडिट पर निर्भरता कम की जा सके। 

2018 में मुद्रास्फीति की मार के बाद सबसे ज्यादा मूल्य के नोट 500 बोलिवर्स के थे, लेकिन अब इसकी इतनी भी कीमत नहीं रह गई है कि इससे एक कैंडी खरीदी जा सके। वर्तमान में सबसे बड़े बैंक नोट की कीमत सिर्फ 8 अमेरिकी डॉलर ही है.कागजी मुद्रा के अवमूल्यन की वजह से पेंशनरों को एटीएम की लंबी-लंबी कतारों में लगना पड़ रहा है। 

बैंक जितना कैश निकालने की अनुमति दे रहे हैं, उसकी कीमत सिर्फ एक डॉलर के बराबर ही है। बैंक में घंटों कतारों में लगने के बाद  लोग एक डॉलर की कीमत के बराबर दर्जनों बोलिवर नोट हाथ में लेकर निकलते हैं।अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष का अनुमान है कि वेनेजुएला में यहां महंगाई 10 लाख प्रतिशत की दर तक बढ़ जाएगी।

Tags :

NEXT STORY
Top