Blog single photo

वायुशक्ति: भारतीय वायु सेना की गरजना से थर्रा उठा पाकिस्तान (देखें फोटो और वीडियो)

पुलवामा हमले से जहां एक ओर पूरा देश पाकिस्तान से बदला लेने की मांग कररहा है वहीं भारतीय वायु सेना ने पश्चिमी सीमा पर ऐसे करतब दिखाये जिसको देख कर पाकिस्तान थर्रा उठा है। वायुसेना प्रमुख एयरचीफ मार्शल वीएस धनोआ ने कहा कि वायुसेना का यह प्रदर्शन सिर्फ दिखाने के लिए नहीं बल्कि दुश्मन को सबक सिखाने के लिये है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(16 फरवरी): पुलवामा हमले से जहां एक ओर पूरा देश पाकिस्तान से बदला लेने की मांग कररहा है वहीं भारतीय वायु सेना ने पश्चिमी सीमा पर ऐसे करतब दिखाये जिसको देख कर पाकिस्तान थर्रा उठा है। वायुसेना प्रमुख एयरचीफ मार्शल वीएस धनोआ ने कहा कि वायुसेना का यह प्रदर्शन सिर्फ दिखाने के लिए नहीं बल्कि दुश्मन को सबक सिखाने के लिये है।  पाकिस्तान सीमा के निकट पोखरण रेंज में वायुसेना के पायलटों ने दुश्मन के ठिकानों को बर्बाद करने का प्रदर्शन किया। अंतरराष्ट्रीय सीमा के करीब वायु सेना के इस प्रदर्शन से पाकिस्तान की धरती भी थर्रा गई।वायुशक्ति के नाम से हुए इस युद्धाभ्यास में एयरफोर्स के 137 लड़ाकू विमान दुश्मन के ठिकानों को ध्वस्त करते नजर आए। युद्धाभ्यास में आकाश अस्त्र मिसाइलों के साथ जीपीएस और लेजर गाइडेड बम, राकेट लांचर का इस्तेमाल हुआ।  मिग-21 बाइसन, मिग-27, मिग-29 मिराज-2000, सुखोई-30 एमकेआई, जगुआर जैसे विमान शामिल थे।

 हर तीन साल में होने वाले इस युद्धाभ्यास 'वायु शक्ति' की इस बार थीम 'सिक्योरिंग द नेशन इन पीस एंड वॉर' है। 'वायु शक्ति' में मिग -21 बाइसन, मिग -27 यूपीजी, मिग -29, जगुआर, एलसीए (तेजस), मिराज -2000, सु -30 एमकेआई, हॉक, सी -130 जे सुपर हरक्यूलिस, एन -32, एमआई -17 वी 5, एमआई -35 हमले के हेलीकाप्टरों, स्वदेशी रूप से विकसित और उन्नत लाइट हेलीकाप्टरों ने अपनी क्षमता और ताकत का प्रदर्शन किया। इसके अलावा वायुसेना के गरुड़ बल ने अपने करतब से सभी को सकते में डाल दिया।

यह पहला ऐसा मौका था जब किसी युद्धाभ्यास के दौरान वायुसेना के किसी लड़ाकू विमान से 'अस्त्रा' मिसाइल को छोड़ने का लाइव नजारा पेश किया गया। 'अस्त्रा को किसी भी ऊंचाई और रेंज से दुश्मन के ठिकानों पर छोड़ा जा सकता है। कम दूरी में 20 किलोमीटर तक और ज्यादा दूरी में 80 तक इसे शत्रु पर सीधे हमला करने में महारत हासिल है। युद्धशक्ति के तहत पोखरण फायरिंग रेंज में इस युद्धाभ्यास में वायुसेना के 13 तरह के विमान और 7 तरह के हेलीकॉप्टर के अलावा मानव रहित विमानों ने कौशल प्रदर्शित किया।

Tags :

NEXT STORY
Top