हिंगोनिया गौशाला: कोर्ट की फटकार के बाद जागी वसुंधरा सरकार

नई दिल्ली (11 अगस्त): जयपुर की हिंगोनिया गौशाला में करीब 100 गाय की मौत पर हाईकोर्ट ने कड़ा रुख दिखाया है। कल राजस्थान उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार को कड़ी फटकार लगाई। अदालत ने 17 अगस्त तक सरकार से कार्रवाई रिपोर्ट तलब की है। इस बीच सीएम वसुंधरा राजे आज गौशाला का जायजा लेंगी। इधर, बताया जा रहा है कि सैकड़ों की तादाद में गौरक्षक जयपुर में प्रदर्शन करेंगे। यह प्रदर्शन 22 अगस्त को होगा। 

जयपुर की हिंगोनिया गौशाला में गायों की लगातार मौत पर हाईकोर्ट ने वसुंधरा सरकार को जमकर फटकार लगाई। अदालत ने सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों पर निराशा जाहिर करते हुए कई नए आदेश जारी किए। 

क्या क्या कहा कोर्ट ने... > कोर्ट ने सरकार से राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी को गौशाला में नियुक्त करने को कहा है। > इन्हें 10 लाख रुपए तक का खर्च मंजूर करने का अधिकार देने को कहा है। > अदालत ने 5 डॉक्टरों को चौबीसों घंटे गौशाला में तैनात करने को कहा है।  > साथ ही गौशाला की कुल 200 बीघा जमीन पर चारा उगाकर गौशाला को आत्मनिर्भर पर बनाने को कहा है।  > इन सभी आदेशों के साथ ही पहले के निर्देशों पर क्या कार्रवाई हुई...अब राज्य सरकार को 17 अगस्त को ये हाईकोर्ट को बताना होगा।    न्यूज 24 ने हिंगोरानी गौशाला में गायों की मौत की खबर को सबसे पहले आपको दिखाया था। हमने प्रशासनिक बदइंतजामी और लापरवाही को गायों की मौत की सबसे बड़ी वजह बताया था। अब राज्य सरकार ने भी कोर्ट में पेश अपनी रिपोर्ट में माना है कि अधिकारियों के बीच तालमेल की कमी और लगातार बारिश की वजह से यहां 5 दिन में करीब 100 गायों की मौत हुई। 

पिछली सुनवाई में कोर्ट ने सरकार से गौशाला में हुई लापरवाही और कमियों पर रिपोर्ट तलब की थी, जिसे राज्य सरकार ने कल अदालत में पेश किया। कोर्ट कमिश्नर की रिपोर्ट में भी गायों की मौत के लिए सरकारी लापरवाही और खामियों को जिम्मेदार ठहराया गया है।