वसुंधरा के इस मंत्री पर पुजारी बनने का भूत सवार

 

सुनील दत्त, जोधपुर (30 मई): राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार के मंत्रीजी विवादों में फंस गए हैं। इन मंत्रीजी पर पुजारी बनने का भूत सवार हो गया है। वो चाहते हैं एक मंदिर का ताउम्र पुजारी बने रहना, लेकिन कुछ लोग आरोप लगा रहे हैं कि मंत्रीजी पर पुजारी बनने का भूत इसलिए सवार है क्योंकि उन्हें मंदिर की 100 करोड़ की प्रॉपर्टी नजर आ रही है।

ओटाराम देवासी देवी वाले ये पुजारी जी वसुंधरा सरकार में मंत्री भी हैं। मंत्री जी अपने गांव के चमुंडा मां के मंदिर के पुजारी भी हैं। राजनीति में इनकी तगड़ी पकड़ है। अब ऐसी ही पकड़ ये मंदिर पर भी बनाना चाहते हैं। ओटाराम देवासी इस मंदिर में सालों से पुजारी के पद पर जमे बैठे हैं। अब उन्होंने मंत्री पद का फायदा उठाते हुए आजीवन पुजारी बनने को लेकर जुगत लगानी शुरू कर दी है। ग्रामीण और मंदिर ट्रस्ट उन्हें हटाने के लिए मुख्यमंत्री से लेकर लोकायुक्त तक शिकायत कर चुके हैं।

मंत्री की आजीवन पुजारी बनने के दिलचस्प कारण: इस मंदिर की 100 करोड़ रुपये की संपत्ति है। करीब 37 लाख रुपये की आमदनी है। मंदिर की 75 बीघा जमीन है। इस पर होने वाली खेती से 25 लाख रुपये की सालाना आमदनी है। मंदिर ट्रस्ट के मुताबिक हर महीने यहां करीब 1 लाख रुपये का चढ़ावा आता है।

मंत्रीजी की दलील: अपनी दलील में मंत्रीजी का कहना है कि वो 30 सालों से इस मंदिर में पूजा कर रहे हैं। वो मंदिर में आने वाले भक्तों के दुख दूर करते हैं क्योंकि उन्हें देवी मां का आशीर्वाद है और उन्होंने कभी किसी से कोई पैसे नहीं लिए। इसलिए उनपर पैसों के लालच का आरोप लगाना गलत है। मंत्री पद के लिए सरकार से वेतन-भत्ता लेने के साथ ही पुजारी पद के लिए ट्रस्ट उन्हें चार हजार रुपये महीने की तन्ख्वाह भी दे रहा है। मंत्रीजी की मनमानी की शिकायत गांववाले प्रशासन को करते हैं लेकिन मंत्री होने की वजह से कोई कार्रवाई नहीं हो रही। कई लोग मंत्री ओटाराम पर आरोप लगा रहे हैं जो मंत्री खुद पर देवी आने का दावा करते थे, वो देवी वाले मंत्री अब बवालों के बवंडर में फंस चुके हैं।

वीडियो:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=y_2NcNFAy44[/embed]