इस स्टेशन पर पीएम मोदी चाय बेचते थे, अब होगा कायाकल्प


नई दिल्ली(22 अप्रैल): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस वडनगर रेलवे स्टेशन पर बचपन में चाय बेचा करते थे अब उसका कायाकल्प होने जा रहा है।


- शुक्रवार को रेलवे राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने बताया कि सरकार आठ करोड़ रुपये खर्च कर स्टेशन को नया रूप देगी। उन्होंने कहा, 'वडनगर रेलवे स्टेशन के विकास के लिए (करीब) आठ करोड़ रुपये स्वीकार किए गए हैं।' सिन्हा यहां इनलैंड कंटेनर डिपो के उद्धघाटन के लिए आए हुए थे।


- साल 2014 के लोकसभा चुनावों में मोदी अक्सर बचपन में पिता के साथ वडनगर स्टेशन पर चाय बेचने का जिक्र किया करते थे। यह उनका जन्मस्थान भी है।


- प्रॉजेक्ट की बाकी जानकारी पर बात करते हुए अहमदाबाद के डिविजनल रेलवे मैनेजर दिनेश कुमार ने बताया कि मेहसाना जिले के इलाकों समेत वडनगर का विकास करने में कुल 100 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। उन्होंने कहा, 'वडनगर रेलवे स्टेशन का विकास वडनगर, मोधेरा और पाटन को विकसित करने के मुख्य कामों में से एक है। पर्यटन मंत्रालय स्टेशन के विकास के लिए पर्यटन विभाग को अब तक 8 करोड़ रुपये दे चुका है।' उन्होंने कहा कि रेलवे वडनगर-महसाना रूट की मीटर गेज लाइन को ब्रॉड गेज लाइन बनाने का काम शुरू कर चुका है।


- इस बीच सिन्हा ने कहा कि मंत्रालय लाइन पर यात्री ट्रेनों के साथ सभी मालवाहक ट्रेनों का टाइम टेबल लागू करने पर विचार कर रहा है। उन्होंने कहा, 'फिलहाल मालवाहक ट्रेनें किसी टाइम टेबल पर नहीं चलतीं। हमने एक पायलट प्रॉजेक्ट की शुरुआत की है जिसके तहत तीन से चार ट्रेने टाइम टेबल के मुताबिक चल रही हैं। प्रॉजेक्ट के परिणाम का विश्लेषण करने के बाद हम सभी मालवाहक ट्रेनों के लिए यह सिस्टम लागू करने का विचार कर रहे हैं।'