रामराज्य की ओर बढ़ रहा है उत्तर प्रदेश: योगी के मंत्री

लखनऊ(15): उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने सीएम योगी आदित्यनाथ की जमकर तारीफ की है। चौधरी ने कहा कि अयोध्या में रोजाना रामलीला, वृंदावन में रासलीला और गाजियाबाद में तीर्थयात्रियों के लिए कैलाश मानसरोवर भवन जैसी योगी सरकार की पहल उत्तर प्रदेश में 'रामराज्य' स्थापित करने की कोशिशों की तरफ इशारा करता है। बता दें चौधरी धार्मिक मामलों के मंत्री हैं।

-चौधरी ने बताया कि योगी सरकार राज्य की पिछली अखिलेश यादव सरकार की तरह 'तुष्टिकरण की नीति' पर नहीं काम कर रही है, बल्कि यह जनहित की नीति है। चौधरी मथुरा की छाता विधानसभा से विधायक हैं।

-  उन्होंने कहा, 'पिछली सरकार ने सिर्फ हज तीर्थयात्रियों के लिए गाजियाबाद में हज हाऊस बनाया। हम 50 करोड़ की लागत से गाजियाबाद में कैलाश मानसरोवर भवन का भी निर्माण कर रहे हैं। चारधाम यात्रा, सिंधु यात्रा वाले तीर्थयात्री यहां मुफ्त में सभी सुविधाओं के साथ ठहर सकते हैं।'

- उन्होंने आगे कहा, 'अयोध्या में रामलीला, वृंदावन में रासलीला, चित्रकूट में भजन-कीर्तन जैसे कदमों से अपने आप समझ में आ जाता है कि ये जितने भी कदम बढ़ रहे हैं, सब रामराज्य की स्थापना की तरफ बढ़ रहे हैं।'

- चौधरी अल्पसंख्यक कल्याण, मुस्लिम वक्फ, हज और संस्कृति मामलों के भी मंत्री हैं। उन्होंने कहा कि मदरसों का मकसद लोगों को सिर्फ नमाज पढ़ने के लिए बताना नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा, 'हमने मदरसों के विकास के लिए 550 करोड़ रुपये दिए हैं। 550 मदरसों के लिए 1-1 करोड़। हमारा मकसद है कि मदरसों में पुरानी पड़ चुकी शिक्षा नहीं दी जानी चाहिए और यह इसका संबंध रोजगार से होना चाहिए और मिजाज टेक्निकल।'

- मंत्री ने कहा, 'आदमी पढ़ने आए और बस नमाज पढ़ना सीख ले, यह कोई मदरसा की खूबी थोड़े ही है। मदरसे के छात्रों को टेक्निकल एजुकेशन मिलनी चाहिए, ताकि उन्हें रोजगार मिलने में मदद मिल सके।'

- चौधरी ने कुछ अन्य प्रॉजेक्ट्स का भी हवाला दिया। मसलन केंद्र सरकार ने मथुरा के गोवर्धन इलाके के विकास के लिए 4,600 करोड़ रुपये देने पर सहमति जताई है। माना जाता है कि भगवान कृष्ण ने बचपन में इस जगह पर गोवर्धन पर्वत उठा लिया था। उन्होंने कहा, 'लोग पैदल परिक्रमा करते थे। हम इसके लिए ट्राम सर्विस शुरू करेंगे। मथुरा और वृंदावन के लिए व्यापक विकास योजना तैयार करने पर भी काम चल रहा है।' मंत्री ने बताया कि इसके अलावा वाराणसी के अस्सी घाट पर रोजाना 1,500-2,000 लोगों के लिए योग की कक्षाएं चल रही हैं। उन्होंने कहा, 'उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ नागरिकों के लिए हम भोजन के साथ मुफ्त तीर्थयात्रा का इंतजाम करने पर भी विचार कर रहे हैं। मसलन उत्तराखंड की चारधामा यात्रा या रामेश्वरम या पुरी जैसे इलाकों के लिए।'