इस बार ऐतिहासिक होगी काशी की देव दीपावली, नेताओं के साथ-साथ फिल्मी सितारों का लगेगा मेला

Image credit: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 नवंबर): काशी में देव दीपावली की तैयारी जोरों पर है। बताया जा रहा है कि इस साल काशी का देव दिपावली कई मायनों में ऐतिहासिक होगी। साथ ही इसे गिनीज बुक में भी दर्ज कराने की तैयारी चल रही है। काशी में 23 नवंबर को आयोजित होने वाले देव दीपावली के लिए तैयारी जोरों पर है। काशी में गंगा के 84 घाटों पर 23 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा पर देव दीपावली के आयोजनों में अयोध्या और मथुरा की झलक दिखेगी। तीन किलोमीटर तक फैले अर्धचंद्राकार घाटों पर जगमगाते लाखों दीप अयोध्या में दीपावली की याद दिलाएंगे तो फूलों की विशेष सजावट से मथुरा की श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की मनोरम छटा का अहसास होगा। घाटों पर बदलते बनारस की तस्‍वीर दिखेगी तो दीपों के माध्‍यम से कहीं बेटी बचाओ, स्‍वच्‍छता अभियान जैसे विषयों पर संदेश दिए जाएंगे।

Image credit: Google

इस मौके पर सांस्कृति कार्यक्रम भी होंगे जिसमें प्रसिद्ध सरोद वादक पंडित शिवदास चक्रवर्ती का सरोद वादन होगा, तबले पर संगत देंगे कुबेर नाथ मिश्र। इन दोनों के द्वारा अमर संगीत विदुषी अन्नपूर्णा देवी को संगीतांजलि अर्पित की जाएगी। कार्यक्रम में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल होंगे। इस महोत्सव में प्रसिद्ध फिल्म स्टार अनिल कपूर सम्मानित अतिथि होंगे।

Image credit: Google

राज्‍य सरकार ने पहली बार देव दीपावली पर घाटों से लेकर प्रमुख स्‍थानों पर उत्‍सव जैसा माहौल बनाने के लिए 50 लाख रुपये मंजूर किए हैं। इससे सभी घाटों पर एक जैसी सजावट की जाएगी। घाटों पर तैयारी अंतिम चरण में हैं, वहीं होटल-लॉज, गेस्‍ट हाउस, बजड़े-नाव पर हाउस फुल के बोर्ड लग गए हैं। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ इस वर्ष देव दीपावली के अवसर पर काशी के खास मेहमान होंगे। 23 नवम्‍बर को मुख्‍यमंत्री अलकनंदा क्रूज से गंगा में भ्रमण करते हुए काशी के घाटों की छटा निहारेंगे।  मुख्‍य आयोजन राजघाट पर होगा। मुख्‍यमंत्री यहीं से आयोजन की शुरुआत करेंगे। इसके बाद क्रूज से अन्‍य घाटों के कार्यक्रम को देखेंगे। मुख्‍यमंत्री की मौजूदगी को ध्‍यान में रखते हुए प्रत्‍येक घाट पर देव दीपावली के उत्‍सव को विशिष्‍ट स्‍वरूप देने की तैयारी है। मुख्‍यमंत्री इस दिन मणिकर्णिका घाट स्थित सतुआबाबा आश्रम में षष्‍ठम सतुआबाबा जगदगुरु यमुनाचार्य महाराज की अष्‍टधातु की प्रतिमा का अनावरण भी करेंगे।

Image credit: Google

केंद्रीय देव दीपावली समिति के अध्‍यक्ष पं.वागीशदत्त शास्‍त्री ने बताया कि घाटों के साथ पहली बार गंगा के दूसरे किनारे रेती पर दीपों की लडि़यां रोशन होंगी। 84 घाटों और किनारे के ऐतिहासिक भवनों, गंगा पार तथा कुंड तालाबों पर करीब बीस लाख दीपदान के लिए सैकड़ों टिन तेल, दीप-बत्ती जुटाने और घाट समितियों को उसके वितरण की जिम्‍मेदारी तय कर दी गई है। वहीं, लोक परंपरा के अनुरूप काशीवासी भी घर-घर देव दीपावली मनाएंगे।