यूपी-उत्तराखंड में जहरीली शराब से मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 100 के पार

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (10 फरवरी): उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में सैकड़ों परिवारों पर जहरीली शराब का कहर टूटा है। यहां जहरीली शराब से मरने वालों का आंकड़ा 100 के पार पहुंच चुका है। उत्तराखंड के रुड़की में मरने वालों की संख्या 31 तक पहुंच गई है। इसके अलावा सहारनपुर में 64 और कुशीनगर में करीब 8 लोगों की मौत की खबर है। तीनों जगहों को मिलाकर मौत का आंकड़ा 100 के पार हो चुका है। मौत का आंकड़ा अभी और बढ़ सकता है, क्योंकि रुड़की में अभी भी कई लोगों की तबीयत बहुत गंभीर बनी हुई है। इस मामले उत्तर प्रदेश पुलिस ने 175 और उत्तराखंड पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। लापरवाही बरतने के आरोप में रूड़की में तैनात आबकारी विभाग के तीन इंस्पेक्टर समेत तेरह कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया है।

वहीं जहरीली शराब से इतनी ज्यादा मौतों के बाद सरकार नींद से जागी है। उत्तर प्रदेश में जगह-जगह मिलावटी शराब के खिलाफ छापे मारे जा रहे हैं। नोएडा, गाजियाबाद, मेरठ, हापुड़, सिद्धार्थनगर, सुल्तानपुर, महराजगंज और आगरा समेत प्रदेश के कई जिलों में छापेमारी की जा रही है। कई जिलों में अभियान चलाकर पुलिस हजारों लीटर कच्ची शराब नष्ट कर चुकी है। कच्ची शराब के खिलाफ चलाए गए इस अभियान में अलग-अलग जिलों में 297 केस दर्ज किए गए हैं और 175 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

नोएडा में भी आबकारी विभाग ने शराब माफियाओं के खिलाफ अभियान तेज कर दिया है। गौतमबुद्धनगर जिले के आधा दर्जन गांवों, झुग्गियों में अवैध शराब और देशी शराब की बिक्री करने वाले ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। वहीं कच्ची शराब बनाने वालों पर भी शिकंजा कसा जा रहा है। दिल्ली के कालिंदीकुंज इलाके में हरियाणा से तस्कारी कर लाई जा रही शराब से लदी ऑल्टो कार जब्त की गई। जिसमें अवैध शराब को छिपा कर रखा गया था।

मुख्यमंत्री योगी इन घटनाओं को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए जांच की बात कही है। वहीं उत्तराखंड के सीएम ने भी दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सरकार ने मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख और इलाज कर रहे लोगों को 50-50 हजार रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है। विपक्षी पार्टियों ने सरकार पर हमला बोला है, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने इस मामले में सीएम का इस्तीफा मांगा तो बीजेपी ने कड़ी कार्रवाई की बात कही है।