सोनभद्र हिंसा के पीड़ितों से मिलने आज जाएंगे सीएम योगी

priyanka-gandhi

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(21 जुलाई):  यूपी के सोनभद्र में जमीनी विवाद के चलते हुई हिंसा में 10 लोगों की हत्या को लेकर सियासी घमासान मचा है। इस बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज सोनभद्र जाएंगे और जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों से मुलाकात करेंगे। योगी घायलों का भी हालचाल जानेंगे, इसके बाद सोनभद्र कलक्ट्रेट में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोनभद्र हत्याकांड की तेजी से जांच के लिए निर्देश दिए हैं। डीजीपी से व्यक्तिगत निगरानी के लिए कहा गया है, आज विपक्षी दलों (कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, टीएमसी) के नेताओं को सोनभद्र जाते समय रोका गया। हालांकि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने आज सोनभद्र हत्याकांड के पीड़ित परिवारों से मिर्जापुर स्थित चुनार गेस्ट में मुलाकात की।

 उन्हें इसके लिए काफी संघर्ष करना पड़ा, करीब 26 घंटे तक धरने पर बैठी रहीं, जिसके बाद मिर्जापुर जिला प्रशासन ने उन्हें पीड़ित परिवारों से मिलवाया। सत्तारूढ़ दल बीजेपी विपक्षी दलों पर सियासत का आरोप लगा रही है। मुलाकात के बाद प्रियंका ने कहा, ''इन बच्चों ने अपने माता -पिता खो दिये हैं। कुछ परिवार ऐसे हैं, जिनके बच्चे और माता-पिता अस्पताल में भर्ती हैं, ये लोग पिछले डेढ़ महीने से अपनी दिक्कतों के बारे में प्रशासन को सूचित कर रहे थे।

गांववालों की मांग के बारे में प्रियंका ने कहा कि जिस भी परिवार ने किसी सदस्य को खोया है। उसे वित्तीय सहायता के रूप में 25 लाख रुपये मिलने चाहिए, पीढ़ियों से जिस भूमि पर वे खेतीबाड़ी करते आ रहे हैं, वह उन्हें दी जानी चाहिए। इन लोगों के मामलों की सुनवाई फास्ट ट्रैक आधार पर हो, ताकि ये विवाद खत्म हों, निर्दोष गांववालों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लिये जाने चाहिए ।

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि अंतत: वह उम्भा नरसंहार के पीड़ित परिवारों से मिलीं. उनके साथ जो हुआ, वह अत्यंत नृशंस और अन्यायपूर्ण है। मानवता के नाम पर हर भारतीय को उनके साथ खड़ा होना चाहिए।

कांग्रेस महासचिव ने कहा, जिन्होंने मुझे गिरफ्तार किया, अपनी गाड़ी में बिठाकर चुनार के किले में लाये, जिन्होंने मुझे इस दरवाजे से उस दरवाजे तक रोका, वो आज कह रहे हैं कि मैं गिरफ्तार नहीं हूं, मैं स्वतंत्र हूं, मैं जा सकती हूं, उन्हें मैं कहना चाहती हूं कि मेरा मकसद पूरा हुआ, मैं परिवार के सदस्यों से मिली। आज मैं जा रही हूं लेकिन मैं वापस आऊंगी।