बेटे के शव को गोद में लेकर भटकती रही मां, अस्पताल ने नहीं दिया एंबुलेंस

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (28 मई): उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर से एक अमानवीय तस्वीर सामने आई है। यहां पैसे की किल्लत में एक मां अपने बेटे का शव लेकर अस्पताल का चक्कर काटती रही लेकिन अस्पताल प्रशासन ने उसे एंबुलेंस नहीं दिया। पूरा मामला शाहजहांपुर जिला अस्पताल का है। बताया जा रहा है कि अस्पताल में इलाज के दौरान रविवार रात एक नौ साल के बच्चे की मौत हो गई। अस्पताल प्रबंधन ने उसे शव वाहन मुहैय्या नहीं कराया। महिला अपने गोद में बच्चे का शव लेकर रोते-विलखते इधर-उधर भटकती रही। यह देख कुछ समाजसेवी सामने आए और चंदा इकट्ठा कर ऑटो का इंतजाम कराया। जिसके बाद महिला अपने बच्चे का शव लेकर घर गई।

मृतक के पिता ने कहा कि उनके बच्चे को तेज बुखार था, जिसके बाद उसे वो अस्पताल ले गए। डॉक्टरों ने हमें इलाज के लिए उसे कहीं और ले जाने के लिए कहा। हमने उनसे वाहन मांगा लेकिन उन्होंने मना कर दिया। परिसर में तीन एंबुलेंस खड़ी थीं। मुझे नहीं पता कि हमें क्यों मना किया गया।' चूंकि मृतक के माता-पिता के पास पैसे नहीं थे, इसलिए वे अपने बच्चे को लेकर चलने लगे।

लड़के की मां ने कहा कि जब वह घर के रास्ते में थे, उसका निधन हो गया। हालांकि डॉक्टरों ने मृतक के माता-पिता द्वारा किए गए दावों का खंडन किया। आपातकालीन चिकित्सा अधिकारी अनुराग पाराशर ने कहा, 'अफरोज नाम का एक बच्चा रात 8:10 बजे अस्पताल आया था। उसकी हालत ठीक नहीं थी, इसलिए हमने माता-पिता को उसे विशेष इलाज के लिए लखनऊ ले जाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा वे उसे ले जाएंगे और बच्चे के साथ चले गए।