योगी के विधायक को पीटने के बाद मोदी के सांसद ने बोला सॉरी, धरने पर बैठे विधायक

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (7 मार्च): चाल चरित्र और चेहरा वाली पार्टी बीजेपी के सांसद ने बीजेपी के ही विधायक को सरेआम चप्पलों से पीट डाला। पूरा मामला यूपी के संत कबीरनगर का है । सांसद शरत त्रिपाठी ने विधायक राकेश बघेल की चप्पलों से जमकर धुनाई कर दी। निगरानी समिति की बैठक में सांसद का ये रुप सामने आया। मामला ये था कि सड़क का शिलान्यास विधायक ने दे दिया था और शीला पट्ट पर अपना नाम दे दिया था।

बताया जा रहा है कि दोनों के बीच शिलापट्टा के नाम पर झगड़ा हुआ। प्रभारी मंत्री की उपस्थिति में चल रही बैठक के दौरान सांसद शरद त्रिपाठी ने पीडब्ल्यूडी प्रांतीय खंड के एक्सईएन एके दूबे से कहा कि करमैनी-बेलौली बंधे की मरम्मत कार्य का शिलान्यास कल हुआ। इसमें केवल विधायक का ही नाम क्यों है, क्या सांसद का नाम नहीं रह सकता, ये किस गाइडलाइन में है, मुझे बताएं। इस पर एक्सईएन ने कहा कि गलती हो गई, सुधार कर दिया जाएगा, लेकिन सांसद शरद का गुस्सा नहीं थमना। जैसे ही विधायक राकेश सिंह बघेल हस्तपेक्ष किया। सांसद शरद त्रिपाणी तैश में आ गए और जूता निकाल कर शुरु हो गए।

बताया जा रहा है कि सांसद महोदय कुछ ऐसा कह देते हैं कि बीजेपी विधायक राकेश सिंह बघेल अपना जूता निकालने की धमकी देते हैं। जैसे ही विधायक बघेल जूता निकालने जाते हैं। सांसद शरद त्रिपाठी अपना जूता निकालते हैं और पिठाई शुरु कर देते हैं। वहां मौजूद दोनों के समर्थक दोनों के बीच बीच बचाव करते हैं लेकिन जब तक सांसद साहब को रोक पाते सांसद साहब विधायक बघेल को 9 जूते रसीद कर चुके होते हैं। दोनों के बीच योगी के मंत्री आशुतोष टंडन भी बैठे हैं। रुकने के लिए कह रहे हैं लेकिन शरद कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है।

मारपीट उस समय हुई जब प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में जिला योजना समिति की बैठक चल रही थी। मारपीट के बाद डीएम रवीश गुप्त एवं अन्य पुलिस अधिकारियों ने बीच बचाव कर मामला शांत करा दिया है, लेकिन स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। मारपीट के बाद बैठक स्थगित हो गई है। देश को शर्मसार करने वाली इस घटना के बाद विधायक राकेश सिंह बघेल के  समर्थकों ने कलेक्टर को घेर लिया और सांसद त्रिपाठी के खिलाफ जमकर नारेबाज़ी की। हालात इतना तनावपूर्ण हो गया कि कलेक्ट्रेट के बाहर समर्थकों को कंट्रोल करने में पुलिस के पसीने छूट गए। बाहर भारी पुलिस बल तैनात करना पड़ा। बताया जा रहा है कि इस वक्त भी हालात तनाव पूर्ण हैं। पार्टी की तरफ से इस पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी गई है, बताया जा रहा है कि सांसद और विधायक के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है।