परिवार में बढ़ी कलह, अब रामगोपाल ने कहा- अखिलेश को घोषित करो सीएम कैंडिडेट

लखनऊ (16 अक्टूबर): यूपी में समाजवादी कुनबे का महाभारत अभी ख़त्म नहीं हुआ है। रामगोपाल यादव ने मुलायम सिंह यादव लेटर लिखकर अखिलेश को सीएम कैंडिडेट बनाने की मांग की है। रामगोपाल ने कहा है कि अगर ऐसा नहीं किया गया तो पार्टी को चुनावों में नुकसान उठाना पड़ सकता है। उधर शिवपाल यादव ने कहा है कि कुछ लोगों को विरासत और किस्मत से सबकुछ मिल जाता है। इस बीच अखिलेस का दावा है कि अगल बजट वही पेश करेंगे।

भले ही नेताजी की दखल के बाद चाचा-भतीजे में सीज़फायर हो गया हो, लेकिन लगता है दूरियां कम नहीं हुई हैं और ये बात चाहे-अनचाहे शब्दों में भी बयां हो रही है। इटावा में एक फिल्म के विमोचन समारोह में शिरकत करने पहुंचे शिवपाल यादव का दर्द उनकी ज़ुंबा पर आ गया। शिवपाल ने कहा कि कुछ लोगों को विरासत और भाग्य से सबकुछ मिल जाता है और कुछ लोगों की मेहनत करते ज़िंदगी बीत जाती है, लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिल पाता। भले ही शिवपाल ने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन ये तीर पर किस पर चला सब समझ गए।

तीर छोड़ने में अखिलेश भी पीछे नहीं हैं। अखिलेश ने कहा है कि अगला बजट वो ही पेश करेंगे। उनके इस बयान के मायने ये निकाले जा रहे हैं कि अखिलेश ये मान चुके हैं कि अगर समाजवादी पार्टी चुनाव जीतती है तो सीएम वो ही बनेंगे। अखिलेश ने ये बयान तब दिया है जबकि मुलायम सिंह यादव ये ऐलान कर चुके हैं कि यूपी के चुनाव के बाद विधायक तय करेंगे कि सीएम कौन होगा। ऐसे में सवाल ये है कि क्या समाजवादी कुनबे के युद्ध में केवल विराम हुआ है, युद्ध ख़त्म नहीं हुआ है।