इसलिए किया गया बीजेपी नेता बृजपाल तेवतिया पर हमला

नई दिल्ली (17 अगस्त): गाजियाबाद में बीजेपी नेता बृजपाल तेवतिया पर हमले के मामले में पुलिस ने चार आरोपिय़ों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक हमले में शामिल आठ आरोपी अभी भी फरार चल रहे हैं। जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है उनके नाम राहुल त्यागी, राम कुमार, जितेंद्र और निशांत हैं। पुलिस के मुताबिक दिल्ली में 1999 में हुई दिल्ली पुलिस के सिपाही सुरेश दीवान सिंह की हत्या को लेकर ये बदले की कार्रवाई थी।

क्या है पूरा मामला?

पूरा मामला 1999 का है जब यूपी पुलिस में तैनात हेड कांस्टेबल सुरेश ने राकेश हसनपुरिया का गैंग ज्वाइन कर लिया था और 1999 में सुरेश का एनकाउंटर कर दिया, इसके बाद 2004 में राकेश हसनपुरिया का भी एनकाउंटर कर दिया।

राकेश की बीवी सुनीता जो यूपी में कांस्टेबल थी और सुरेश के बेटे मनोज और भतीजे मनीष को शक था कि इन दोनों एनकाउंटर की मुखबरी बृजपाल तेवतिया ने की है क्योंकि वो पुलिस का मुखबिर था, इसलिए काफी सालों से दुश्मनी है। पहले भी हमले की साजिश रची थी। फ़िलहाल मनोज और मनीष फरार है। इनके अलावा इस पूरी वारदात में (प्लानिंग और हमले) 2 दर्जन से अधिक आरोपी हैं, जिनमें से 4 की गिरफ्तारी हो चुकी है।

आपको बता दें कि बीजेपी नेता बृजपाल तेवतिया पर गुरुवार रात गाजियाबाद के मुरादनगर के रावली रोड पर AK-47 समेत अन्य हथियारों से जानलेवा हमला हुआ था और इसमें 100 से अधिक राउंड गोलियां फायर की गई थीं।