वीडियो: फूलन देवी के परिवार का बुरा हाल, खाने तक को हो गए मोहताज

खिलेश कुमार सिंह, जालौन(25 फरवरी): हालातों से हारकर फूलन देवी की बहन ने हथियार उठाने का ऐलान कर दिया है। फूलन की मां और बहन खाने तक को मोहताज हो गए हैं।

- यूपी के जालौन के इस गांव का नाम तो शेखपुर गुढ़ा है,  लेकिन इसकी पहचान बिहड़ से संसद तक का सफर करने वाली फूलन देवी के नाम से बन चुकी है। एक वक्त था जब फूलन देवी के नाम भर से ही लोग कांप उठते थे।, एक वक्त था जब वो संसद में जनता की नुमाइंदगी करती थीं,  लेकिन आज उनका परिवार दाने-दाने को मोहताज है।

- मिट्टी के चूल्हे में किसी तरह उधार की रोटी सेंककर नमक के साथ ही फूलन की मां-बहन और उनका परिवार गुजारा करने को मजबूर है। घर की हालत मुफिलिसी की दास्तां बयां कर रही है तो गांव की सूरत बदहाली की।

- फूलन देवी की हत्या के बाद मां मूला देवी और बहन रामकली को समाजवादी पार्टी से लेकर शासन-प्रशासन तक ने मदद का भरोसा दिलाया, लेकिन बात भरोसे से आगे बढ़ नहीं सकी। खेती से जिंदगी की गाड़ी चलने की उम्मीद थी मगर उस पर भी दबंगों ने डाका डाल दिया। लिहाजा फूलन की बहन को मजबूरी में मजदूरी करनी पड़ी।

- मनरेगा से किसी तरह पेट चलता रहा, लेकिन उसमें भी काम मिलना बंद हो गया। अब लोगों से मिलने वाले सौ-दो सौ रुपये और उधार पर जिंदगी टिकी हुई है।

- नौबत पेट पर आफत तक की आ गई है लिहाजा आजिज आकर अब रामकली अपनी बड़ी बहन फूलन के पुराने रास्ते पर चलने की सोचने लगी हैं। परिवार की सुध नहीं लेने पर अब वो डकैत बनने की चेतावनी दे रही हैं।

- फूलन के परिवार के दर्द से गांव के लोग भी अच्छे से वाकिफ हैं। लिहाजा कभी-कभार वो भी खाने का बंदोबस्त कर देते हैं। लेकिन इस तरह जिंदगी की गाड़ी कब तक खिंचेगी ये बड़ा सवाल है।

- फूलन देवी के एक भाई मध्य प्रदेश पुलिस में हैं। लेकिन उन्होंने गांव से दूरी बना रखी है। यहां तक कि मां-बहन की सुध भी नहीं लेते मदद की बात तो दूर। समाजवादी पार्टी ने फूलन को संसद तक पहुंचाया था इसलिए फूलन के जाने के बाद उम्मीद थी कि वो परिवार का ख्याल रखेगी। लेकिन वो भी छलावा ही साबित हुआ और अब नौबत यहां तक पहुंच चुकी है कि परिवार की बेटी को हथियार उठाने का ऐलान करना पड़ रहा है।

देखें वीडियो...