आश्वासन के बावजूद वकीलों की नहीं हुई गिरफ्तारी, पीसीएस संघ ने दी चेतावानी

लखनऊ ( 20 दिसंबर ): राजधानी लखनऊ में शनिवार को कुछ वकीलों द्वारा अधिकारियों की पिटाई किए जाने के मामले में तत्काल कार्रवाई की मांग करते हुए उत्तर प्रदेश प्रादेशिक सेवा (पीसीएस) संघ ने धमकी दी है। कर्मचारी और प्रशासनिक अफसरों के साथ मारपीट के मामले में 1100 पीसीएस अफसर मारपीट करने वाले वकीलों पर कोई सख्त कार्रवाई न करने की वजह से नाराज हैं। पीसीएस एसोसिएशन का कहना है कि सरकार ने अफसरों से किये अपने वादे को नहीं निभाया है। शासन से सहमति बनी थी, लेकिन इसके बावजूद वकीलों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।पीसीएस अफसर वकीलों पर सख्त एक्शन और लखनऊ की SSP मंज़िल सैनी के ट्रांसफर की मांग कर रहे हैं। पीसीएस अफसरों से मारपीट करने वाले वकीलों की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है। पीसीएस संघ की बैठक में सख्त निर्णय लिया जा सकता है। इसकी पीसीएस संघ ने चेतावनी दी है। संघ का कहना है कि सरकार पीसीएस संघ से किया अपना वादा नहीं निभाया है।बता दें शनिवार को वकीलों ने जिलाधिकारी कार्यालय में कर्मचारी अमित के अलावा एसीएम और एडीएम के साथ भी मारपीट और अभद्रता की थी। इस मामले में दबाव के चलते स्थानीय पुलिस ने प्रशासनिक अफसरों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर लिया था। मामला तूल पकड़ने पर मुकदमे तो वापस लिए गए, लेकिन आरोपी वकीलों की गिरफ्तारी नहीं की गयी।