पुलिस ट्रेनिंग सेंटर की सुरक्षा में सेंध, फर्जी ढंग से प्रशिक्षण ले रही युवती गिरफ्तार

POLICE

Image Source Google

शिव प्रकाश, न्यूज 24 ब्यूरो, मेरठ (20 जून): मेरठ के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर एक फर्जी महिला सिपाही को गिरफ्तार कर लिया गया है। प्रीति नाम की यह लड़की गैर कानूनी ढंग से पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में सिपाही की ट्रेनिंग ले रही थी। पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में गिनती के दौरान प्रीति की करतूत से पर्दा उठ गया। 

इस दौरान जब छानबीन की गई तो पता लगा कि इसके पहले वह लखीमपुर खीरी और बरेली में भी जाकर पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में ट्रेनिंग के लिए कोशिश कर चुकी है, लेकिन दोनों जगह उसकी कोशिश नाकाम रही। जिसके बाद तीसरी बार अब मेरठ में उसने गैर कानूनी ढंग से सिपाही की ट्रेनिंग लेने की कोशिश की। 

इस बार मेरठ के थाना खरखौदा में पुलिस ने प्रीति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया और उसे अब गिरफ्तार कर लिया गया है । आपको बता दें कि प्रीति बिजनौर जिले के नहटोर थाना क्षेत्र की रहने वाली है। जहां उसी के गांव की एक लड़की प्रीति का नाम पुलिस भर्ती के सफल अभ्यार्थियों की लिस्ट में आ गया था।। 

लेकिन इस प्रीति का नाम उस लिस्ट में नहीं आ सका। यह लड़की उसी नाम का सहारा लेकर मेरठ के पीटीएस में दाखिल हो गई और ट्रेनिंग लेने की कोशिश शुरू कर दी। लेकिन आज गिनती के दौरान इस की करतूत से पर्दा उठ गया और उसे गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए आज आरोपी महिला को कोर्ट में पेश किया है।

पुलिस की मिलीभगत की आशंका

गौरतलब है कि पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय जहां सुरक्षा के मद्देनजर कई चरणों पर छानबीन की जाती है, वहां इस प्रकार कई दिनों से फर्जी प्रशिक्षु का ट्रेनिंग लेना पुलिस सुरक्षा को ही कटहरे में खड़ा करता है। इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि इस महिला प्रशिक्षु को ट्रेनिंग दिलाने में पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय के ही किसी अधिकारी या इंस्टेक्टर का सहयोग हो। महिला प्रशिक्षु से अभी पूछताछ की जा रही है। लेकिन इस पूरे प्रकरण से पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था पर प्रश्नचिह तो लग ही गए साथ ही पुलिस महकमे की घोर लापरवाही भी उजागर हो गई है।

लखीमपुर खीरी में भर्ती थी प्रीति, बिजनौर में हुआ था मेडिकल

नहटौर क्षेत्र के गांव जलालपुर असरा निवासी प्रीति प्रजापति पुत्री राजकुमार लखीमपुर खीरी जनपद से भर्ती हुई थी। उसका मेडिकल 18 मई को बिजनौर जनपद में हुआ था। इसके बाद 22 मई को वह लखीमपुर खीरी जनपद में ट्रेनिगं के लिए चली गई। वहां 12 दिन तक ट्रेनिंग करने के बाद इसे बरेली भेज दिया गया। छह से सात दिन तक बरेली के बाद मुरादाबाद भेजा। वहां से एक दिन बाद सीट फुल बताकर पीटीएस सीतापुर भेजा गया था। इस घटना से परिजन सन्न हैं। प्रीति ने पिछले साल बीकाम की पढ़ाई मोरना डिग्री कालेज से की थी। माना जा रहा है कि किसी दलाल ने भर्ती प्रक्रिया में घुसपैठ कर उसे फर्जी ट्रेनिंग कराई है।