दस घंटे बाद खुशी को बोरवेल से निकाला... फिर भी बचा नहीं पाए

कानपुर (2 मार्च): घंटों तक चले ऑपरेशन के बाद भी बोरवेल में गिरी खुशी को नहीं बचाया जा सका है। एडीआरएफ और सेना की टीम ने बोरवेल से बाहर निकालकर उसे हैलट अस्पताल पहुंचाया। लेकिन, डाक्टरों के दल ने उसे मृत घोषित कर दिया। 

बता दें कि आज सुबह नवाबगंज में चिडि़याघर के पास झोपड़ी डालकर रह रहे गोंडा के दिहाड़ी मजदूर सोनू की डेढ़ वर्ष की बेटी खुशी खेलते वक्त बोरवेल में गिर गई थी। 

बोरवेल केडीए की सिग्नेचर सिटी की स्वायल टेस्टिंग के लिए एचबीटीआई ने बनाया था। बच्ची के गिरने के बाद उसकी मां श्यामा ने हल्ला मचाया तो मोहल्ले के लोगों को खबर लगी। सुबह 7:30 बजे पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी गई। नवाबगंज थाने की  फोर्स कुछ ही देर में पहुंची।