युवती ने की खुदकुशी, परिवार का केंद्रीय मंत्री पर बड़ा आरोप

नई दिल्ली(17 फरवरी): उत्तप प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक युवती ने गुरुवार को खुदकुशी कर ली। युवती की खुदकुसी के लिए एक केंद्रीय मंत्री को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

- खुदकुशी की कहानी युवती के पिता से लूट, भाई को बंधक बनाने और उत्पीड़न जैसे आरोप से जुड़ी हुई है।

- युवती की मां का आरोप है कि सबकुछ एक केंद्रीय मंत्री के इशारे पर हुआ है। केंद्रीय मंत्री का नाम आने से मामला हाईप्रोफाइल हो गया। हालांकि मंत्री ने साफ कर दिया कि वह युवती के परिवार के किसी भी सदस्य से कभी नहीं मिले और न ही वह व्यक्तिगत रूप से किसी को जानते हैं।

- दूसरी ओर पुलिस भी मंत्री का इस मामले से किसी भी तरह का लेना-देना होने से साफ तौर पर इनकार कर रही है।

- मामला मुजफ्फरनगर के कोतवाली नई मंडी थाना क्षेत्र के अंकित विहार कॉलोनी का है। जिस युवती ने आत्महत्या की है, उसके पिता देवप्रकाश एक बीजेपी नेता की कंपनी में काम करते हैं। वह तीन दिन पहले कंपनी के काम से लखनऊ गए थे। बकौल देवप्रकाश रास्ते में बदमाशों ने कंपनी के साढ़े चार लाख रुपये लूट लिए। जिसकी जानकारी लखनऊ पुलिस और कंपनी के मालिक को वेदप्रकाश ने दे दी थी। लेकिन दो दिन बाद भी जब देवप्रकाश घर नहीं लौटे तो युवती का भाई अक्षय पिता को खोजने गया लेकिन वह भी नहीं लौटा। जिसकी शिकायत पीड़ित परिवार ने पुलिस से की।

- युवती महिमा की मां संजी देवी का आरोप है की कंपनी के मालिक ने उसके पति और बेटे को बंधक बनाया हुआ है।

- उनका आरोप है कि यह सब केंद्रीय मंत्री के इशारे पर किया गया है। उनका आरोप है कि स्थानीय पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। देवप्रकाश की पत्नी ने यह भी चेतावनी दी थी कि अगर उसके पति और बेटे को जल्द रिहा नहीं किया तब वह सीएम के यहां बेटी के साथ आत्महत्या कर लेंगी। इसी दौरान गुरुवार की सुबह देवप्रकाश की बेटी ने घर के अंदर फांसी लगाकर जान दे दी। खुदकुशी करने से पहले महिमा ने घर की दीवार पर लिखा, 'मेरे भाई अक्षय को वापस लाकर दो।'

- मामले में केन्द्रीय मंत्री का कहना है कि वह देवप्रकाश के परिवार को जानते तक नहीं। उन्होंने कहा, 'जिस फर्म में देवप्रकाश काम करते थे, उसके मालिक बीजेपी से जुड़े हैं, इस नाते मैं सिर्फ उनको जानता हूं। वह इस बार बीजेपी से टिकट मांग रहे थे और वह गांव के प्रधान भी रह चुके हैं। फर्म से मेरा कोई लेना-देना नहीं हैं।' मंत्री का कहना है कि महिला उनका नाम क्यों ले रही है, यह कौन करा रहा है, इस साजिश के पीछे कौन हैं, यह वह नहीं जानते। उन्होंने कहा कि वह भी अपना नाम इस मामले में घसीटे जाने से हैरान हैं।

- एसपी सिटी राजेश कुमार का कहना है कि देवप्रकाश से लूट होने की रिपोर्ट लखनऊ में दर्ज है। उन्होंने कहा, 'देवप्रकाश बुधवार को थाने आया था। कंपनी के लोग भी साथ में थे। उसने खुद के बंधक बनाए जाने से इनकार किया था। उनका बेटा गायब है, पुलिस पूरी मुस्तैदी से उसे ढूंढ रही है।'