अखिलेश यादव का योगी सरकार पर हमला, बोले- 'यूपी में ज्यादातर एनकाउंटर फर्जी'


न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (2 दिसंबर): यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने राज्य में योगी सरकार में हुए ज्यादातर एनकाउंटर्स को फेक बताया है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में होने वाली अधिकांश मुठभेड़ नकली हैं। अखिलेश ने कहा, 'यह विपक्ष नहीं कह रहा है, ये राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का कहना है। इस वजह से कानून और व्यवस्था और खराब हो रही है।' 

अखिलेश ने कहा, 'एनकाउंटर्स धोखा देने के लिए हैं। जहां ये एनकाउंटर्स हुए वहां पर कानून और व्यवस्था खराब हो गई। ज्यादातर मुठभेड़ पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हुई हैं और वहां कानून व्यवस्था की स्थिति खराब हो गई है।' उन्होंने कहा कि लोगों को उनके मुठभेड़ से पहले अपराधियों के रूप में झूठे रूप से फंसाया गया है और यहां तक कि पुलिसकर्मी खुद को यह साबित करने के लिए गोली मारते हैं कि ये मुठभेड़ नकली नहीं हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास के मुद्दों से जनता का ध्यान हटाने के लिए चुनाव के समय भारतीय जनता पार्टी (BJP) द्वारा 'धार्मिक' मुद्दों और देवियों और देवताओं को जानबूझ कर उठाया जा रहा है।

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने गैर सरकारी संगठन (NGO) पीपुल्स यूनियन फार सिविल लिबर्टी के अनुरोध पर उत्तर प्रदेश प्रशासन से उसका जवाब दाखिल करने को कहा था। एनजीओ ने अनुरोध किया है कि उत्तर प्रदेश में हाल में हुई मुठभेड़ों में लोगों को मारे जाने की अदालत की निगरानी में सीबीआई या एसआईटी से जांच कराई जाए। उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने जवाब में इन आरोपों का कड़ाई से खंडन किया कि अल्पसंख्यक समुदाय के अपराधियों को ही निशान बनाया जा रहा है। उसने कहा कि पुलिस कार्रवाई में मारे गये 48 अपराधियों में से 30 बहुसंख्यक समुदाय से संबंधित हैं।

दाखिल रिपोर्ट में कहा गया कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने 20 मार्च 2017 से 31 मार्च 2018 के बीच तीन लाख आरोपियों को गिरफ्तार किया। कई पुलिस कार्रवाई में आरोपियों ने गिरफ्तारी का विरोध किया और पुलिस कर्मियों पर गोलीबारी की। फलस्वरूप पुलिस को आत्मरक्षा में कार्रवाई करनी पड़ी।