यूपी उपचुनाव नतीजे का होगा ये असर, बीजेपी के लिए बड़ा इम्तिहान

नई दिल्ली(14 मार्च): आज यूपी की दो सीटों पर हुए लोकसभा उपचुनाव के नतीजे आएंगे। ये दोनों वो सीटें हैं जिस पर बीजेपी का कब्जा ही नहीं रहा है बल्कि इस सीट से खुद मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री का सीधा नाता रहा है। इसलिए इन दोनों सीटों के आने वाले नतीजों को सीएम योगी की साख से जोड़कर देखा जा रहा है।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बीजेपी की जीत का भरोसा है। लेकिन नतीजे अगर उम्मीदों के मुताबिक नहीं आये तो जाहिर है ये ना सिर्फ पार्टी के लिए बल्कि खुद योगी के लिए एक बड़ा झटका होगा। एक यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की छोड़ी गई सीट फूलपुर तो दूसरी खुद सीएम योगी आदित्यनाथ की छोड़ी गई सीट गोरखपुर है।

जाहिर है इन दोनों सीटों के नतीजे सीधे-सीधे सीएम की साख से जुड़ा है। अगर बीजेपी को जीत मिलती है तो इससे सीएम योगी के कामकाज पर जनता की मुहर लगेगी। उनकी सियासी साख और मजबूत होगी। 2019 के लोकसभा चुनाव के लिहाज से उनका कद और बढ़ेगा। इससे 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए एक संदेश भी जाएगा। साथ में विरोधियों को अपनी रणनीति पर फिर से विचार करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। 

गोरखपुर और फूलपुर की सीटों पर हुए उपचुनाव बीजेपी के लिए एक इम्तिहान माना जा रहा है। ऐसे में अगर बीजेपी अपनी सीट बचाने में नाकाम रहती है तो जाहिर है ये सीएम की साख के लिए तगड़ा झटका होगा। विपक्ष को सरकार के कामकाज पर उंगली उठाने का मौका मिलेगा। ये संदेश देने की कोशिश होगी कि जनता ने बीजेपी की सरकार को नकार दिया है। इसका 2019 के लोकसभा चुनाव पर असर पड़ने से इनकार नहीं किया जा सकता।

फूलपुर और गोरखपुर में कम मतदान के चलते जीत-हार को लेकर तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। आपको बता दें कि गोरखपुर में महज 43 फीसदी जबकि फूलपुर में 37.39 फीसदी मतदान ही हुआ। हालांकि अब नतीजे का वक्त आ चुका है जिससे पूरी तस्वीर साफ हो जाएगी।