यूपी मे अभूतपूर्व सियासी संकट, समाजवादी कुनबे मे छिडा संग्राम

नई दिल्ली(14 सितंबर): उत्तर प्रदेश अभूतपूर्व सियासी संकट की तरफ बढ गया है...इस संकट की वजह भी कोई औऱ नहीं बल्कि खुद मुलायम का समाजवादी कुनबा है। घर के भीतर छिडा संग्राम अब सार्वजनिक हो गया है औऱ दो दिनो के भीतर सियासी हालात इस तरह से बदल गये कि न केवल सरकार बल्कि समाजवादी पार्टी भी संकट मे आ गई है। 

जिस समाजवादी कुनबे को मुलायम ने देश का सबसे बडा सियासी कुनबा बना दिया था वह अब घर के झगडे की वजह से टूटने की कगार पर है। पार्टी मे दो फाड भले ही न हो लेकिन संगठन से सरकार तक जो हालात बन गये उसमे दो गुट जरुर अस्तित्तव मे आ गये है। महज दो दिनो के भीतर यूपी के सियासी हालात ऐसे बदले कि चाचा भतीजे के बीच तलवारे खिंच गई है। ऑपरेशन क्लीन के नाम पर कल अखिलेश ने मुलायम औऱ शिवपाल के करीबी दो मंत्रियो गायत्री प्रजापति औऱ राजकिशोर सिंह को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया। धमाका तब  हुआ जब शिवपाल के करीबी अफसर मुख्य सचिव दीपक सिंघल को उनके पद से हटा दिया गया। और यहा से अखिलेश की तरफ से शुरु हुआ युद्ध शाम तक उनके लिये ही भारी पड गया।

मुलायम की रजामंदी से प्रो रामगोपाल ने दिल्ली से िचट्ठी जारी कर अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष के पद से बाहर किया और शिवपाल को प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी सौप दी और रात होते होते अखिलेश ने यह साबित कर दिया कि वह डमी सीएम नही है। अपनी ताकत का एहसास कराते हुये उन्होने शिवपाल सिंह यादव से सभी अहम विभाग छीन लिये.तो अब शिवपाल क्या करेगे। 

 दो दिनो के भीतर मंत्रिमंडल औऱ नौकरशाही की सफाई करते करते बात इतनी बढ गई कि आंच मुलायम के घर तक आ गई। चुनावी वक्त मे विरोधी दलो से मुकाबले की जगह मुलायम के घर मे दंगल शुरु हो गया है। चरखा दांव मे माहिर मुलायम खुद घर के झगडे से चकरा गये है।दरअसल यह झगडा भले ही कौमी एकता दल के विलय से शुरु हुआ हो लेकिन सपा मे यह महाभारत पहले से जारी था। अमर सिंह के शामिल होने मे शिवपाल की भूमिका थी।.ऐसे मे शिवपाल औऱ अमर सिंह की जोडी लगातार अखिलेश को डैमेज कर रही थी। मुलायम शिवपाल औऱ अमर सिंह के खेमे मे नजर आ रहे है ऐसे मे अखिलेश के लिये खुद की ताकत को साबित करना और खुद को सशक्त मुख्यमत्री के तौर पर पेश करना भी बडी चुनौती थी औऱ उन्होने बीते दो दिनो मे वही किया भी। लेकिन बात इतनी बिगड जायेगी यह न मुलायम ने सोचा था औऱ न समाजवादी कार्यकर्ताओ नेसीएम का पलटवार चाचा शिवपाल को भीतर तक चुभ गया है। फिलहाल वह इटावा मे है लेकिन सुबह तक वह लखऩऊ आ जायेगे। शिवपाल अखिलेश सरकार से बाहर आने का फैसला कर चुके है। सुबह मुलायम भी लखऩऊ पहुचेगे औऱ शिवपाल भी। इस्तीफा देने से पहले उनकी मुलायम से मुलाकात भी होगी..लेकिन बिगडी बात अब बनती नही दिख रही है।