अंधेरे में मोबाइल फोन यूज़ किया तो शरीर के इस नाजुक अंग को हो सकता है नुकसान

नई दिल्ली (24 जून): घर में पेरेंट्स से या हॉस्टल में वार्डन से छुप कर स्मार्ट फोन का इस्तेमाल करना काफी नुकसान दायक हो सकता है। अंधेरे में स्मार्ट फोन लगातार इस्तेमाल करने से आंखों की रोशनी भी जा सकती है। यह हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि न्यू इंग्लैण्ड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपे एक शोध से यह जानकारी सामने आयी है।

इस शोध में बताया गया है कि  22 साल और 40 साल की दो महिलाओं की केस स्टडी से पता चला कि स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से शुरुआत में इनमें अंधेपन के लक्षण देखे गए। डॉक्टर्स के मना करने के बावजूद इन्होंने सावधानी नहीं बरती जिसके चलते इन दोनों की आंखों की रोशनी पूरी तरह जा चुकी है।

शोधकर्ताओंने इस बीमारी को नामट्रांजिएंट स्मार्टफोन ब्लाइंडनेस दिया है। जर्नल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक शुरुआत में इन महिलाओं को कुछ वक़्त के लिए दिखाई देना बंद हो जाता था।

महिलाओं के कई टेस्ट किए गए लेकिन ऐसा क्यों हो रहा है इसका पता नहीं चल पाया। बाद में इन महिलाओं से जब पूछा गया कि ऐसा अक्सर कब होता है तो उन्होंने बाते कि रात में जब वो लेटकर स्मार्टफोन इस्तेमाल कर रहीं होती हैं तब ऐसा अक्सर होता है।  अगर आपको भी टेम्परेरी ब्लाइंडनेस शिकायत है तो  हो रहा है तो ये संभल जाने का वक़्त है।