चीते की तरह दौड़ने वाला बोल्ट ओलिंपिक में भी पहुंचा सबसे पहले

नई दिल्ली(29 जुलाई): दुनिया के सबसे तेज धावक उसेन बोल्ट रियो ओलिंपिक खेलों के शुरू होने से एक सप्ताह शेष रहते ही रियो डी जेनेरियो पहुंच गए हैं। वे लगातार तीन वे ओलिंपिक खेलों में स्प्रिंट स्वीप के लिए उतरेंगे।

विश्व रिकॉर्डधारी बोल्ट इससे पहले जमैका ट्रायल्स के बीच से मांसपेशियों की चोट के कारण हट गए थे और उन्होंने गत शुक्रवार को अपना फिटनेस टेस्ट दिया था। वे लंदन डायमंड लीग में 200 मी. दौड़ 19.89 सेकंड में पूरा करने के बाद चैंपियन बने थे। 29 वर्षीय बोल्ट जमैका के प्री-ओलिंपिक शिविर का हिस्सा बनेंगे और उनका इरादा रियो ओलिंपिक में 100 मीटर, 200 मी. और 4 गुणा 100 मीटर रिले दौड़ के स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाने का होगा। यदि बोल्ट ऐसा करने में कामयाब होते हैं तो वे दुनिया के पहले एथलीट बन जाएंगे, जिसने लगातार तीन ओलिंपिक में 100, 200 और 4 गुणा 100 मी. रिले के स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया हो।

बोल्ट मांसपेशियों की चोट के कारण जमैका ट्रायल से हट गए थे और उसके बाद से म्यूनिख में ही चिकित्सकों की देखरेख में अपना अभ्यास कर रहे थे। उनका म्यूनिख में ही इलाज चल रहा था। जमैका के 63 सदस्यीय ओलिंपिक दल में 59 ट्रैक एंड फील्ड एथलीट हैं जिसमें बोल्ट भी एक हैं। जमैका तैराकी, डाइविंग और कलात्मक जिम्नास्टिक्स में भी प्रतिनिधित्व करता है।